धरातल पर गतिविधियाँ

हर साल औसतन फेल हो रहे है सवा हजार नसबंदी ऑपरेशन – मध्यप्रदेश

दिनांक – 20 मार्च 2017

स्रोत – बिच्छु डॉट कॉम

प्रदेश में नसबंदी लक्ष्य को पूर्ति करने में चिकित्सक इतने लापरवाह है की औसतन करीब हर साल सवा हजार नसबंदी ओपरेशन फेल हो रहे है

विस्तृत खबर के लिए लिंक – http://bichhu.com/?p=115801

———————————————————————–

नसबंदी के बाद 44 महिलाए हुई गर्भवती- ग्वालियर

दिनांक – 20 फरवरी 2017

स्रोत – पत्रिका, ग्वालियर

मध्यप्रदेश सरकार जनसंख्या वृद्धि पर रोक लगाने के उद्धेश्य से किये जाने वाले नसबंदी ऑपरेशन फेल हो रहे है ग्वालियर में  पिछले दो सालो में नसबंदी ऑपरेशन के बाद 44 महिलाए गर्भवती हुई है | मुआवजे के लिए भटक रही है महिलाये

विस्तृत खबर के लिए लिंक

  1. http://epaper.patrika.com/1111194/Patrika-Gwalior/gwalior-patrika#page/7/1
  2.  http://epaper.patrika.com/1111194/Patrika-Gwalior/gwalior-patrika#clip/17024747/9163e676-d43a-43aa-958c-d2cf601a385b/936:407.80308880308877

————————————————————————

जिला अस्पताल सिंगरौली में फिर हुई मानवता शर्मशार

दिनांक – 18 फरवरी 2017

स्रोत – पत्रिका

सिंगरौली निवासी बसंती को प्रसव पीड़ा होने पर जिला अस्पताल, सिंगरौली  लाया गया जहा पर डॉ ने गंभीर बता कर रेफर कर दिया | महिला की हालत नाजुक होने के कारन वहा चल नहीं पा रही थी फिर भी आशा के सहयोग से अस्पताल से बहार जाने के दौरान गेट में प्रसव हो गया |

http://epaper.patrika.com/c/16944043

http://epaper.patrika.com/1108476/Singrauli-Patrika/sidhi-singruli#page/3/1

————————————————————————

महिलाओं के सहयोग से अस्पताल के चौखट पर कराया प्रसव – श्योपुर

दिनांक – 18 जनवरी 2017

स्रोत – पत्रिका श्योपुर

दांतेटी निवासी केशव की पत्नी को प्रसव पीड़ा होने पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ढोढर ले गया जहा पर ड्यूटी नर्स आराम कर रही थी प्रसूता को जाँच के लिए बोला गया पर वे नहीं आई, महिला की हालत बिगड़ने पर साथ आई महिला ने अस्पताल के चौखट पर प्रसव करवाया | प्रसव के बाद नर्स ने बदसलूकी करते हुए बहार आई और भारती करने के लिए 500 रुपये की मांग की और कही बिना रुपये दिए यहाँ पर कुछ भी नहीं हो सकता है और सेवा देने से इंकार कर दी |

पूरी खबर पड़ने के लिए क्लीक करे

& http://epaper.patrika.com/1074251/Sheyopur-Patrika/sheopur-patrika#page/1/1

————————————————————————

प्रसव के बाद महिला की मौत – बैतूल

दिनांक – 21 जनवरी 2017

विमला पति सुनील को रात को प्रसव पीड़ा होने पर जननी वाहन को कॉल किया पर जब तक वाहन आता तब तक घर में प्रसव हो चूका था | रात 1.30 पर वाहन आई विमला को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हीरापुर ले गया जहा पर भर्ती कर इलाज किया गया और दुसरे दिन छुट्टी दे दिया गया परन्तु एक सप्ताह बाद घर में अचानक बेहोश हो गयी जिसके बाद विमला को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शाहपुर ले गया जहा पर जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया जहा पर विमला की मौत हो गयी |
अधिक जानकारी के लिए

http://epaper.bhaskar.com/detail/1155248/12114735750/mpcg/map/tabs-1/01-21-2017/405/1/image/

————————————————————————

नहीं मिला स्ट्रेचर, जननी वाहन में हो गया प्रसव -श्योपुर

दिनांक – 14 जनवरी 2017

स्रोत – पत्रिका न्यूज़, श्योपुर

श्योपुर जिले के नरवर निवासी जमुना पति गजेन्द्र को प्रसव पीड़ा होने पर जननी वाहन से जिला अस्पताल श्योपुर पहुंचा जहा पर जननी वाहन के ड्राईवर ने जननी को अस्पताल के अन्दर लेन के लिए स्ट्रेचेर की मांग की पर डॉक्टर और नर्स नहीं सुना क्योकि सर्दी अधिक होने के कारन दोनों हीटर का आनंद ले रहे थे | इस प्रक्रिया में 20 मिनट गुजर गया पर कोई भी अस्पताल कर्मचारी मदद के लिए नहीं आया अंत में वाहन पर ही प्रसव हो गया इसके बाद डॉक्टर व नर्स हरकत में आये और जमुना को असपताल में भर्ती किया |

पूरी खबर पड़ने के लिए क्लीक करे

http://naiduniaepaper.jagran.com/epaper/14-jan-2017-55-Madhyanchal-edition-Gwalior.html

————————————————————-

प्रदेश में अव्यवस्थाओं के बीच नसबंदी

मध्य प्रदेश में लक्ष्य आधारित नसबंदी शिविर शुरू हो चूका है जिसकी खामियाजा हितग्राही महिलाओं को उठानी पड़ रही है | प्रदेश के अलग अलग जिलो से अखबरो के माध्यम से प्रति दिन खबरे पड़ने को मिल रही है की कड़ाके की ठण्ड में अव्यवस्थाओं के बीच हुआ नसबंदी शिविर का आयोजन |नसबंदी शिविरों में कही कही महिलाओं को खुले आसमान में खेतो में पलंग लगाकर लिटाया गया तो कही बिजली चली गयी, महिला को ओपरेशन टेबल में घंटो लेती रही जैसे आदि समस्याओ का सामना करना पड़ा |

पूरी खबर पड़ने के लिए

1) http://epaper.patrika.com/1067878/Singrauli-Patrika/sidhi-singruli#page/4/1

2) http://epaper.starsamachar.com/1049000/Star-Samachar/26.12.2016#page/13/1

3) http://epaper.patrika.com/1049626/Singrauli-Patrika/sidhi-singruli#page/1/1
4) http://epaper.patrika.com/1068058/Sheyopur-Patrika/Sheopur-Patrika#page/1/1

5) http://naiduniaepaper.jagran.com/epaper/14-jan-2017-55-Madhyanchal-edition-Gwalior.html

6)http://epaper.patrika.com/1070171/Sheyopur-Patrika/Sheopur-Patrika#page/2/1

7) http://epaper.patrika.com/1036254/Shahdol-Patrika/shahdol#page/11/1

8) http://epaper.patrika.com/1074260/Bhind-Patrika/bhind-patrika#page/1/3

9) http://epaper.patrika.com/1079281/patrika-bhopal/22-01-2017#page/11/1

10) http://www.patrika.com/news/tikamgarh/women-in-the-winter-under-the-open-sky-were-titurti-1491776/

11) http://www.bhaskar.com/news/MP-GWA-HMU-MAT-latest-gwalior-news-040505-1855475-NOR.html

12) http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/narsimhapur-ntn-ntntn-962250

13) http://i7news.in/archives/57383

14) http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/bhind-bhind-news-956715

15) http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/shahdol-sdl-news-966744

16) http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/ashoknagar-news-939299

17) http://naiduniaepaper.jagran.com/Article_detail.aspx?id=57751&boxid=40033&ed_date=2017-1-29&ed_code=65&ed_page=18

————————————————————————

प्रसव के बाद एक ही घर के दो नवजात की मौत – बैतूल

दिनांक – 9 जनवरी 2017

स्रोत – भास्कर, बैतूल

बैतूल जिले के घोड़ाडोंगरी विकासखंड की  रोझडा निवासी शिवरती को प्रसव पीड़ा होने पर वाहन की अभाव में घर में प्रसव करना पड़ा पर प्रसव के दौरान बच्चे को माँ से अलग नहीं किया जा सका, परिजन आनन फानन में सरपंच की मदद से अस्पताल ले गया पर वह पर डॉक्टर ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया, शिवरती ने दुसरे बच्चे को जन्म दिया पर वो भी मृत था |

पूरी खबर के लिए यहाँ क्लिक करे

http://epaper.bhaskar.com/detail/1147898/1911331689/mpcg/map/tabs-1/01-09-2017/405/1/image/

————————————————————————

रस्ते में हुआ प्रसव, नवजात की मौत – ग्वालियर

दिनांक – 6  जनवरी 2017

स्रोत – नई दुनिया, ग्वालियर

महादेवी पति अरविन्द कुशवाह को प्रसव पीड़ा होने पर आंतरी स्वास्थ्य केंद्र ले गया जहा पर दोक्टोए नहीं होने के कारण नर्स ने ग्वालियर रेफर कर दिया | स्वस्थ्य केंद्र से वाहन की सुविधा नहीं मिलाने पर परिजन आनन् फानन में निजी वाहन से जिला अस्पताल ग्वालियर ले जाते समय महादेवी को रास्ते में प्रसव हो गया | रास्ते में प्रसव होने के कारण इलाज की उचित व्यवस्था न मिलाने की बजह से नवजात की मौत हो गयी |

विस्तृत खबर के लिए -http://naiduniaepaper.jagran.com/Article_detail.aspx?id=29568&boxid=48179&ed_date=2017-1-06&ed_code=52&ed_page=4

————————————————————————

अव्यवस्थाओं के बीच तीन दर्जन महिलओं की नसबंदी – सिंगरौली

दिनांक – 5 जनवरी 2017

स्रोत – सिंगरौली पत्रिका

जिला चिकित्सालय सिंगरौली में फिर अव्यवस्थाओं के बीच हुई नसबंदी शिविर का आयोजन जिसमे न तो महिलाओं के रुकने के लिए उचित जगह और और न उचित संसाधन | नसबंदी के बाद महिलाओं को घर छोड़ने के लिए वाहन की व्यवस्था नहीं होने के कारन महिलाओं को ऑटो से घर जाना पड़ता है और कभी कभी पैसे की अभाव में महिलाये एक ऑटो में आवश्यकता से अधिक महिलाये बैठ जाती है यही कारण है कि अस्पताल परिसर में ऑटो वालो की भीड़ लगी रहती है |

पूरी खबर के लिए – http://epaper.patrika.com/1059901/Singrauli-Patrika/sidhi-singruli#page/3/1

————————————————————————

पैसे न देने पर धक्का देकर भगाया, सड़क पर प्रसव – गुना

दिनांक – 01 जनवरी 2017

स्रोत – भास्कर , भोपाल

सुनीता पति किशन लाल को प्रसव पीड़ा होने पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जामनेर में भर्ती कराया गया जहा पर डियूटी ए एन एम् व दाई ने प्रसव करने के लिए 5000 रुपये की मांग की परिवार रुपये देने में असमर्थ होने की स्थिति में ए एन एम् व दाई ने सुनीता को धक्के मार कर केंद्र से बहार कर दिया | कड़ाके की  सर्दी वाली रात में ग्रामीणों की मदद से सुनीता का प्रसव बिच सड़क में करवाया गया |

लिंक – http://epaper.bhaskar.com/detail/1143243/1132727899/mpcg/map/tabs-1/01-01-2017/120/8/image/

————————————————————————

तृतीय चरण समुदाय आधारित निगरानी रिपोर्ट

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत प्रदेश के 14 जिलों में तृतीय चरण समुदाय आधारित निगरानी कार्यक्रम की प्रक्रिया को संचालित किया गया था | इस प्रक्रिया के तहत सुविधा स्तर पर  मातृत्व स्वास्थ्य सेवाओं और सुविधाओं पर जानकारी निकली गयी और हितग्राही महिलओं के साथ साक्षात्कार किया गया जिसकी विश्लेंशानात्मक रिपोर्ट नीचे है

विस्तृत रिपोर्ट के लिए क्लिक करे  

————————————————————————

मातृत्व एवं प्रजनन स्वास्थ्य रिपोर्ट कार्ड – मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश सरकार ने मातृ मृत्यु दर को कम करने की महत्वपूर्ण प्रयास किया है फिर भी अपेक्षाकृत बदलाव नहीं हो पाया है |  मातृ मृत्यु दर कम करने के लिए सरकार ने प्रसव पूर्व व पश्चात् जाँच पर जोर दिया है साथ ही  मातृत्व योजनओं को क्रियान्वयन एवं आरोग्य केंद्र जैसे राज्यव्यापी कार्यक्रमों का क्रियान्वयन किया है फिर भी स्तिथि गंभीर बनी हुई है और मातृत्व स्वास्थ्य सूचकांको में कमी नहीं दिख रही है |

विस्तृत रिपोर्ट के लिए यहाँ क्लिक करे 

————————————————————————

डॉक्टर की लापरवाही प्रसूता की मौत – भोपाल

दिनांक – 12 -12 -2016

स्रोत – दैनिक भास्कर, भोपाल

डॉक्टर की लापवाही फिर सामने आई,  भोपाल के बड़े अस्पतालों में एक काटजू अस्पताल जहा पर उच्च स्तर की सेवाए मिलाती है फिर भी प्रसव के 20 मिनट बाद महिला की मौत हो गयी वही दूसरी और चलती ट्रेन में सामान्य बोगी पर एक महिला की प्रसव पीड़ा होने पर यात्रियों की मदद से महिला का प्रसव करवाया गया, माँ और बच्चा दोनों सुरक्षित  |

http://epaper.bhaskar.com/bhopal/120/12122016/mpcg/1/

———————————————————————–

जिला संवाद मंथन- दतिया

दतिया। मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान मध्यप्रदेश जिला इकाई दतिया 20161205_130952के तत्वावधान में  जिला स्तरीय मंथन कार्यक्रम 5 दिसम्बर 2016 को आयोजित किया गया। आयोजित कर्यक्रम में डी एच ओ  डॉ डी. के. गुप्ता, जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी श्री बी.एल. विश्नोई, डी.पी. एम्. विनय पाण्डेय, डी. सी. एम.  सुश्री नाजरा इब्राहिम, श्री दिनेश उमरैया जिला समन्वयक म.प्र. जन अभियान परिषद, बी.पी.एम. एस. के. पाठक, पत्रिका के अविनाश खरे, ई टी व्ही के जितेंद्र गोस्वामी, दैनिक भास्कर के मनीष सेंन, रोशन शुक्ला, पंचायती राज महासंघ के जितेंद्र ठाकुर, सरदार सिंह गुर्जर, जिला इकाई सदस्य डॉ ए. के. खरे, डॉ बबीता विजपुरिया,  श्रीमती उमा नोगरैया, एस. आर.चतुर्वेदी, अशोक शाक्य, रामकुमार दुबे सहित अन्य विभागीय अधिकारी, मीडिया, सामाजिक कार्यकर्ता आदि ने मंथन में विचार व्यक्त करते हुए मातृत्व स्वास्थ्य के मुद्दे पर एकजुटता के साथ कार्य करने की सहमति जताई।

————————————————————————

जिला संवाद मंथन – श्योपुर व छिन्दवाड़ा

श्योपुर – मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत दिनांक 4 नवम्बर 2016 श्योपुर जिला में जिला संवाद मंथन आयोजित की गयी थी जिसमे स्वास्थ्य विभाग से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, मीडिया के साथी, वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता एवं स्थानीय संस्था के साथियों ने भाग लिया इसमे मुख्यत: CBM आंकड़े के आधार पर चर्चा की गयी साथ ही जिला स्तरीय स्वास्थ्य समस्याओं पर मिल कर समाधान करने की प्रयास पर जोर देने की बात हुई  |

छिन्दवाड़ा – मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत दिनांक 7 नवम्बर 2016 को p1090424छिन्दवाड़ा जिले में जिला संवाद मंथन आयोजित की गयी थी जिसमे स्वास्थ्य विभाग से जिला कम्युनिटी मोबिलाईजर, मीडिया के साथी, वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता, जनप्रतिनिधि, अधिवक्ता, समुदाय एवं स्थानीय संस्था के साथियों ने भाग लिया इसमे मुख्यत: CBM आंकड़े के आधार पर चर्चा की गयी साथ ही जिला स्तरीय स्वास्थ्य समस्याओं पर मिल कर समाधान करने की प्रयास पर जोर देने की बात हुई और एक समूह बना कर इस विषय पर निरंतर काम करने की बात कही |

————————————————————————

राज्य स्तरीय संगोष्ठी भोपाल

स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत दो दिवसीय राज्य स्तरीय संगोष्ठी भोपाल में आयोजित की गयी जिसमे प्रदेश के 14 जिलों के 43 संस्थाओं के साथी और प्रत्रकार एवं वकील साथी भी प्रतिभागी थे  इस प्रकार से कुल 55 साथी भागीदारी लिया था |  इस संगोष्ठी में निम्न मुद्दों पर चर्चा की गयी थी  –
1)  फ़ेलोशिप कार्यक्रम का प्रस्तुतिकरण – फेलो द्धारा
2)  नसबंदी कैंप की प्रस्तुतीकरण
3)  संभाग प्रस्तुतीकरण, mhrc
4)  खुल्ली चर्चा, mhrc

5)   भविष्य कार्ययोजना, mhrc

न्यूज़ में 
2)  pipuls samachar, Bhopal

————————————————————————

MHRC के 25 आवेदनों का यु दिया जवाब – महिला आयोग

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान ने अक्टूबर 2015 से लेकर अगस्त mhrc-news-mahila-aayog-pipuls-news-24-10-162016 तक मातृत्व स्वास्थ्य से सम्बंधित सेवाओं के उल्लंघन व मृत्यु पर 25 केस पर महिला आयोग को आवेदन किया था  | पीपुल्स समाचार के पत्रकार ने इस मुद्दे पर महिला आयोग के साथ चर्चा कर जानकारी चाही इस पर आयोग ने कहा की मुझे इस मामले पर जानकारी नहीं है, आयोग इस तरह के मामलो पर पूरी तरह गम्भीर है, हम इस मामले में जल्द ही कार्यवाही करेंगे |

————————————————————————

जिला संवाद मंथन – सतना

दिनांक – 21 अक्टूबर 2016

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत तृतीय चरण समुदाय आधारित निगरानी के तहत एकत्र आकडे का साझा किया गया जिसमे स्थानीय मीडिया साथी , संस्था के साथी, विभागीय अधिकारी एवं सामाजिक कार्यकर्त्ता उपस्थित थे | इस कार्यक्रम में मातृत्व स्वास्थ्य पर चर्चा की गयी जिसमे जमीनी स्तर से लेकर जिला स्तर तक सेवा में कमी और ईलाज में हो रही उल्लंघन व मातृ मृत्यु आदि | कार्यक्रम के अंत में अभियान के स्थानीय साथियों ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को मांग पत्र दी जिसमे मातृत्व स्वास्थ्य सेवाओं और सुविधाओ को बेहतर करने की मांग की और PHC एवं CHC स्वास्थ्य केन्द्रों पर मातृत्व स्वास्थ्य सेवाए सुनिश्चित करने की बात की

————————————————————————

जिला संवाद मंथन – सीधी

दिनांक – 19 अक्टूबर 2016

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत तृतीय चरण समुदायmhrc-news-sidhi-patrika-20-10-16 आधारित निगरानी के तहत एकत्र आकडे का साझा किया गया जिसमे स्थानीय मीडिया साथी , संस्था के साथी, विभागीय अधिकारी एवं सामाजिक कार्यकर्त्ता उपस्थित थे | इस कार्यक्रम में मातृत्व स्वास्थ्य पर चर्चा की गयी जिसमे जमीनी स्तर से लेकर जिला स्तर तक सेवा में कमी और ईलाज में हो रही उल्लंघन व मातृ मृत्यु आदि | कार्यक्रम के अंत में अभियान के स्थानीय साथियों ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को मांग पत्र दी जिसमे मातृत्व स्वास्थ्य सेवाओं और सुविधाओ को बेहतर करने की मांग की और PHC एवं CHC स्वास्थ्य केन्द्रों पर मातृत्व स्वास्थ्य सेवाए सुनिश्चित करने की बात की

————————————————————————

जिला स्तरीय संवाद – सिहोर व भिंड

दिनांक – 17 अक्टूबर a2016

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत दो जिलों में जिला स्तरीय संवाद mhrc-news-sehore-19-10-16कार्यक्रम किया गया जिसमे जिले के विभिन्न संस्थाओं के साथ एवं मीडिया के साथ bhind-rajxepress-mhrc-news-18-10-16भागीदारी हुए | बैठक में निम्न मुद्दों पर चर्चा की गयी –

  1. साथियों का परिचय
  2. अभियान के बारे में प्रस्तुतीकरण
  3. CBM रिपोर्ट प्रस्तुत
  4. मातृत्व स्वास्थ्य पर चर्चा
  5. मीडिया साथियों की भूमिका
  6. आगामी प्लान
  7. समूह द्धारा CMHO को ज्ञापन

————————————————————————

जिला स्तरीय बैठक-सीधी

दिनांक – 13 अक्टूबर 2016

जिला संवाद कार्यक्रम के लिए सीधी जिले में स्थानीय संस्था एवं मीडिया साथियों के साथ 13 अक्टूबर 20 16  को बैठक की गयी जिसका विस्तृत रिपोर्ट नीचे है |

विस्तृत रिपोर्ट

————————————————————————

जिला स्तरीय बैठक – भिंड

दिनांक – 12 अक्टूबर 2016

जिला संवाद कार्यक्रम के लिए भिंड जिले में स्थानीय संस्था एवं मीडिया साथियों के साथ 12 अक्टूबर 20 16  को बैठक की गयी जिसका विस्तृत रिपोर्ट नीचे है |

विस्तृत रिपोर्ट 

————————————————————————

नहीं मिली जननी, प्रसूता की रस्ते में मौत – सतना

दिनांक – 30 सितम्बर 2016 satna-news-29-9-16


निर्मल पति राधे कोल 22 वर्ष निवासी देवरा भठ्ठा को प्रसव पीड़ा होने पर प्रसव केंद्र रैगँव ले गया जहा पर महिला की खून की कमी बता कर जिला अस्पताल रेफर कर दिया परन्तु परिजन ने उसे घर ले गया | घर में देर रात निर्मला की प्रसव हो गयी | प्रसव के बाद निर्मला की तबियत बिगड़ने पर परिजन प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सोहावल लेकर पहुंचे | जहा पर महिला की गंभीर हालत देखकर जिला अस्पताल रेफर कर दिए परन्तु जननी वाहन उपलब्ध नहीं कराया गया परिजन निजी वाहन से जिला अस्पताल के लिए गए परन्तु महिला की मौत रस्ते में हो गयी

————————————————————————

मीडिया के द्धारा mhrc का पहल

rubi-news-deshbandhi

भोपाल

प्रसव के दौरान नर्स द्धारा लापरवाही से बच्चे की मौत और एक दिन बाद महिला को पेशाब की रस्ते से मल आना फिर मेडिकल कॉलेज रीवा रेफर करने की घटना को MHRC ने महिला को पूर्णत:  ईलाज के लिए राज्य के विभिन्न विभागों में आवेदन किया किया और इस सम्बन्ध में मीडिया साथियों से मिला | जिसमे राजधानी के देशबंधु समाचार पत्र, भोपाल ने इस केस को विस्तार से मुख्य भाग

                              ————————————————————————

प्रसूता की प्रसव के दौरान हुई मौत, लापरवाही का आरोप – दतिया

भिण्ड 20/सितंबर/2016

साझा – स्वदेश संस्था, दतिया

सोमवार रात को जिला चिकित्सालय में प्रसव के लिए आई एक महिला को तैनात स्टाफ द्वारा डिलवरी के लिए भर्ती कर लिया, लेकिन इस दौरान डिलवरे के समय पर्याप्त इलाज न मिलने के कारण मंगलवार सुबह उसकी मौत हो गई। प्रसूता की मौत के बाद परिजनों द्वारा चिकित्सकों पर सही इलाज न देने का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया।

जिले के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल में इलाज के तमाम तरह दावों के बीच आए दिन भर्ती होने वाले मरीजों की जान जाने का सिलसिला बदस्तूर जारी है। सोमवार रात को 10 बजे के करीब सुरपुरा निवासी हाकिम सिंह कुशवाह की पत्नी भूरी बाई को उसके परिजन प्रसव के लिए लेकर पहुंचे। रात को अस्पताल में तैनात स्टाफ द्वारा महिला को प्रसव के लिए भर्ती कर लिया। परिजनों के अनुसार सुबह 4 बजे के करीब महिला की हालत खराब होने के बाद मौत हो गई, जिसके बाद मौके पर पहुंचे चिकित्सक और स्टाफ उसे डिलवरी के लिए ले गए। यहां कुछ देर बाद उन्होने महिला की मौत होने की सूचना दी। गर्भवती महिला की मौत होने के बाद अस्पताल में मौजूद मृतका के परिजनों द्वारा काफी हंगामा किया गया। सुबह 8 बजे के करीब मामले की जानकारी मिलने पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ जेआर त्रिवेदिया तुरंत मौके पर पहुंचे, जहां उन्होने परिजनों से मामले में दोषी चिकित्सक के खिलाफ जांच के बाद कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया।

पर्याप्त इलाज न मिलने से मौत:  प्रसव के लिए आई महिला की मौत के बाद उसके पति हाकिम सिंह ने बताया कि उनकी पत्नी की रात 2 बजे के करीब पेट में तेज दर्ज होने लगा, जिसकी सूचना उसके द्वारा अस्पताल में तैनात स्टाफ को दी गई। लेकिन उनके द्वारा उसे रुटीन दर्द बताते हुए लापरवाही बरती गई। इसके 1 घण्टे बाद स्टाफ नर्स भूरी को डिलवरी के लिए लेकर गए। यहां कुछ देर बाद उन्होने उसकी मौत की जानकारी दी। हाकिम ने आरोप लगाते हुए कहा कि मेरी पत्नी की मौत अस्पताल स्टाफ और डॉक्टर की लापरवाही और सही इलाज न होने से हुई है।

http://www.rubarunews.com/2016/09/blog-post_382.html#more

————————————————————————

गैलरी में तड़पती रही प्रसूता, सुबह हुई मौत – भिंड

दिनांक – 21 सितम्बर 2016

साझा – नूतन ग्रामोत्थान समिति, भिंड

जिला अस्पताल भिंड के डॉ व स्टाफ नर्स की लापरवाही से प्रसूता के लिए आई महिला की मौत

विस्तृत खबर

http://naiduniaepaper.jagran.com/Article_detail.aspx?id=23754&boxid=52696&ed_date=2016-9-21&ed_code=56&ed_page=13

————————————————————————

कागजी कार्यवाही में देर अस्पताल की गैलरी में हुआ प्रसव – दतिया 

दिनांक – 26 सितम्बर 2016

साझा – स्वदेश संस्था, दतिया

पहली केस में डॉ के अनुसार उपरी दूध पिलाने से नवजात की मौत पर परिजन ने कहा पोलियो की दवा पिलाने से हुई नवजात की मृत्यु, वही दूसरी केस में भर्ती प्रक्रिया में देर होने से महिला ने मेटरनिटी वार्ड की गैलरी में हुआ प्रसव |

विस्तृत न्यूज़

http://epaper.bhaskar.com/detail/?id=1082643&boxid=92605423343&ch=mpcg&map=map&currentTab=tabs-1&pagedate=09/26/2016&editioncode=381&pageno=1&view=image

————————————————————————

दो प्रसूता की मौत – जिला अस्पताल मुरैना 

दिनांक – 19 सितम्बर 2016

प्रसव के बाद मुरैना जिला अस्पताल से किया रेफर  प्रसूता की मौत

http://epaper.bhaskar.com/detail/?id=1077904&boxid=9192148414&ch=mpcg&map=map&currentTab=tabs-1&pagedate=09/19/2016&editioncode=277&pageno=1&view=image

————————————————————————

जिला अस्पताल के गेट पर प्रसव, बच्चे की मौत – श्योपुर  

दिनांक – 19 सितम्बर 2016

जिला अस्पताल रेफर, नहीं मिली एम्बुलेंस परिजन बाइक में बैठकर जिला अस्पताल लेकर आये, भर्ती प्रक्रिया के दौरान गेट में प्रसव, नहीं आये स्वास्थ्य कर्मी मदद के लिए |

विस्तृत न्यूज़ के लिए क्लीक करे

http://epaper.bhaskar.com/detail/?id=1077926&boxid=9192145394&ch=mpcg&map=map&currentTab=tabs-1&pagedate=09/19/2016&editioncode=380&pageno=1&view=image

————————————————————————

नसबंदी के तत्काल दे दी छुट्टी, महिलाए बस स्टैंड में बेहोश – बड़वानी

दिनांक – 14 सितम्बर 2016

लक्ष्य आधारित नसबंदी शिविर का आयोजन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पाटी में किया गया था जहा पर नसबंदी के बाद महिलाओं को तत्काल छुट्टी दे दी गयी | बस स्टैंड में बस की इन्तेजार में कमजोरी के कारण महिलाए बेहोश होकर गिर पड़ी |

विस्तृत न्यूज़ के लिए क्लीक करे

http://epaper.bhaskar.com/detail/?id=1074595&boxid=9140367636&ch=mpcg&map=map&currentTab=tabs-1&pagedate=09/14/2016&editioncode=363&pageno=3&view=image

————————————————————————

संभाग स्तरीय मीडिया उन्मुखीकरण कार्यशाला-चम्बल

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत चम्बल संभाग स्तर पर मीडिया उन्मुखीकरण कार्यशाला 17 सितम्बर 2016 को ग्वालियर में आयोजित की गयी जिसमे मुरैना, दतिया, भिंड, श्योपुर और ग्वालियर से मीडिया व अभियान के साथियों ने भाग लिया | कार्यशाला को दिशा प्रदान करने के लिए  ग्वालियर महाविश्वविधालय के प्रोफ़ेसर एवं वरिष्ठ पत्रकार जयंत सिंह तोमर एवं अभियान से संभाग समन्वयक देवेन्द्र जी एवं अभियान के वरिष्ठ साथी व अन्य साथी कुल 35 उपस्थित थे |
p1090329
चर्चा के बिंदु –
1) स्वास्थ्य की शहरी ढांचागत व्यवस्था पर चर्चा की गयी
2) अभियान द्धारा जानकारी के आधार पर रेवांचल संभाग की मातृत्व स्वास्थ्य की स्तिथि को प्रस्तुत किया गया |
3) प्रदेश में हो रही मातृत्व मृत्यु और उल्लंघन पर दी गयी विभिन्न संस्थाओं (NHM,SHRC & SWC) की आवेदन पर चर्चा |
4) पैरोकारी में मीडिया साथी के सहयोग पर चर्चा
5) उल्लंघन कैसो पर चर्चा
6) आगामी कार्ययोजना
निर्णय – 
1) जिले स्तर पर मीडिया व संस्था साथियों की माहवार बैठक
2) मुद्दे (न्यूज़) को  अभियान का रूप देना
3) मीडिया व संस्था साथियों की  whatsapp ग्रुप का निर्माण
4) त्रैमासिक संभाग स्तरीय समीक्षा बैठक

————————————————————————

संभाग स्तरीय मीडिया उन्मुखीकरण कार्यशाला-रेवांचल

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत रेवांचल संभाग स्तर पर मीडिया उन्मुखीकरण कार्यशाला 16 सितम्बर 2016 को आयोजित की गयी जिसमे ररीवा, सतना, सीधी और सिंगरौली    से मीडियों ने भाग लिया | इस मीडिया वर्कशॉप का मुख्य उद्धेश्य अभियान के साथी को मीडिया साथी के साथ आपसी समन्वय से काम करना, न्यूज़ को एक अभियान का रूप देना और स्वास्थ्य के स्थानीय मुद्दों पर पैरोकारी के लिए स्वतंत्र समूह का निर्माण करने पर जोर देना था | इस वर्कशॉप को एक दिशा देने के लिए वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्ता साथी श्री अरुण त्यागी जी उपस्थित थे साथ ही वर्कशॉप में 30 साथियों  ने भाग लिया था |
चर्चा के बिंदु –
1) स्वास्थ्य की शहरी ढांचागत व्यवस्था पर चर्चा की गयी
2) अभियान द्धारा जानकारी के आधार पर रेवांचल संभाग की मातृत्व स्वास्थ्य की स्तिथि को प्रस्तुत किया गया |
3) प्रदेश में हो रही मातृत्व मृत्यु और उल्लंघन पर दी गयी विभिन्न संस्थाओं (NHM,SHRC & SWC) की आवेदन पर चर्चा |
4) पैरोकारी में मीडिया साथी के सहयोग पर चर्चा
5) उल्लंघन कैसो पर चर्चा
6) आगामी कार्ययोजना

————————————————————————

90 दिन में प्रसव के दौरान ३ महिलाओं की मौत – मुरैना 

दिनांक – 14 सितम्बर 2016

morena-bhaskar14-9-16

http://epaper.bhaskar.com/detail/?id=1074684&boxid=91412247359&ch=mpcg&map=map&currentTab=tabs-1&pagedate=09/14/2016&editioncode=277&pageno=4&view=image

————————————————————————

जिला स्तरीय बैठक – भिंड 

दिनांक – 13 सितम्बर 2016

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत जिला भिंड में बैठक आयोजित की गयी जिसमे राज्य स्तर की बैठक में हुई चर्चा और संभाग स्तर पर होने वाली मीडिया वर्कशॉप पर विचारो का आदान प्रदान किया गया |

विस्तृत रिपोर्ट 

————————————————————————

राज्य समन्वय समिति बैठक – भोपाल 

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत राज्य समन्यवक समिति की बैठक  9 सितम्बर 2016 को की गयी जिसमे लगभग समिति के सभी साथियों ने भाग लिया | बैठक में निम्न मुद्दों पर चर्चा एवं निर्णय लिए गए  –
1) शेयरिंग वर्क (NAMHHR संचालन समूह, HRNL वर्कशॉप,
2) अनुपस्थित राज्य समिति के सदस्यों पर चर्चा
3) अभियान की मजबूती जिला स्तर पर
4) जिला स्तरीय बैठक
5) संभाग मीडिया वर्कशॉप
6) जिला स्तरीय कैंपेन
निर्णय –
1) रेवांचल संभाग में 16 सितम्बर 2016 और चम्बल संभाग में 17 सितम्बर 2016 को मीडिया वर्कशॉप  जिसमे मीडिया के दो साथी एवं संस्था के एक साथी भाग लेंगे |
2) CBM रिपोर्ट के आधार पर जिला स्तरीय कैंपेन न कर जिला स्तर पर संवाद समुदाय, जनप्रतिनिधि आदि के साथ |
3) जिला स्तर पर अभियान को मजबूत करने के लिए संस्था साथियों के साथ साथ अधिवक्ता, पत्रकार एवं सामाजिक सोच वाले व्यक्ति को जोड़ना |
4) सर्वसहमति से राज्य समन्वयक समिति में छिन्दवाड़ा से सत्यकाम जन कल्याण समिति से अशोक मंद्रे का नाम जोड़ा गया |
5) राज्य समन्वयक समिति की सर्वसहमति से NAMHHR के संचालन समिति में अभियान की ओर से स्मृति (साथिया) को एक साल के लिए प्रस्तावित किया गया |

————————————————————————

संभाग स्तरीय मीडिया उन्मुखीकरण कार्यशाला – भोपाल

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत भोपाल संभाग स्तर पर मीडिया उन्मुखीकरण कार्यशाला 8 सितम्बर 2016 को आयोजित की गयी जिसमे भोपाल,  छिन्दवाड़ा, बैतूल और सिहोर से मीडियों ने भाग लिया | इस मीडिया वर्कशॉप का मुख्य उद्धेश्य अभियान के साथी को मीडिया साथी के साथ आपसी समन्वय से काम करना
p1090230 और स्वास्थ्य के स्थानीय मुद्दों की पैरोकारी पर जोर देना था | इस वर्कशॉप को दिशा देने के लिए संदर्भ साथी वरिष्ठ पत्रकार एवं संपादक हरदेनिया जी एवं राकेश दीवान जी उपस्थित थे और 27 साथियों  ने भाग लिया था |
चर्चा के बिंदु –
1) स्वास्थ्य की शहरी ढांचागत व्यवस्था पर चर्चा की गयी
2) अभियान द्धारा तीसरी CBM की फाइंडिंग को प्रस्तुत किया गया
3) प्रदेश में हो रही मातृत्व मृत्यु और उल्लंघन पर दी गयी विभिन्न संस्थाओं (NHM,SHRC & SWC) की आवेदन पर चर्चा |
4) पैरोकारी में मीडिया साथी के सहयोग पर चर्चा
5) उल्लंघन कैसो पर चर्चा

————————————————————————

एम्बुलेंस के लिए 16 घंटे तक तड़पती रही प्रसूता की मौत – भिंड

दिनांक – 10 सितम्बर 2016

स्रोत – नै दुनिया, भिंड

सिंसार निवासी सरोज को प्रसव पीड़ा होने पर आटेर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया जहा पर सरोज ने एक बेटी को जन्म दिया परन्तु प्रसव के बाद सरोज की तवियत बिगड़ने पर न तो ईलाज मिल पाया और न ही रेफर के लिए एम्बुलेंस मिल पाया इस प्रकार से 16 घंटे बिट गए | परिजन ने आनन् फानन में जिला अस्पताल ले गया जहा पर सरोज को मृत घोषित कर दिया गया |

विस्तृत न्यूज़ के लिए क्लीक करे

http://naiduniaepaper.jagran.com/Article_detail.aspx?id=23168&boxid=45128&ed_date=2016-9-10&ed_code=56&ed_page=13

————————————————————————

नहीं मिला एम्बुलेंस, माँ की शव को 20 किलोमीटर सायकिल से ले गया – शहडोल

दिनांक – 10 सितम्बर 2016

स्रोत – नई दुनिया, शहडोल

shahdol-nai-duniya-10-9-16

http://naiduniaepaper.jagran.com/Article_detail.aspx?id=48679&boxid=44903&ed_date=2016-9-10&ed_code=61&ed_page=15

————————————————————————

जिला अस्पताल खरगोन में प्रसूता की मौत

दिनांक – 5 सितम्बर 2016

पिंकी पति रामप्रकाश प्रसव पीड़ा होने पर ऊन अस्पताल  में भर्ती कराया गया जहा पर पिंकी ने एक स्वस्थ लडके को जन्म दिया पर कुछ समय बाद पिंकी का स्वास्थ्य बिगड़ने पर उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया जहा पर समय पर ईलाज नहीं मिलाने पर पिंकी की मौत हो गयी |

विस्तृत न्यूज़ के लिए क्लीक करे

http://naiduniaepaper.jagran.com/Article_detail.aspx?id=4776&boxid=52178&ed_date=2016-9-05&ed_code=7&ed_page=15

————————————————————————

डॉक्टर की लापरवाही से नवजात की मौत – सीधी

दिनांक – 30 अगस्त 2016

घटना जुलाई माह की है जिसमे रूबी नामक महिला का प्रसव पीड़ा होने पर जिला अस्पताल सीSidhi news patrika, 30-8-16धी में भर्ती कराया गया जहा पर डॉ ने लापरवाही से प्रसव कराया जिसके कारण नवजात की मौत हो गई और प्रसूता को रेफर किया गया |

केस स्टोरी के लिए क्लीक करे 

_________________________________________________________________

MHRC जिला स्तरीय बैठक – सीधी

दिनांक – 27 अगस्त 2016IMG_20160827_132815 (1)

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत सीधी जिले में जिला स्तरीय बैठक की गयी जिसमे 6 संस्थाओ के 7 साथी उपस्तिथ थे |

विस्तृत रिपोर्ट 

_________________________________________________________________

भोपाल स्थानीय समूह बैठक – भोपाल

22 अगस्त 2016 को मीडिया उन्मुखीकरण कार्यशाला की तैयारी बैठक सोचारा ऑफिस, भोपाल में किया गया जिसमे भोपाल समूह के 6 साथियों ने भाग लिया | इस बैठक में निम्न मुद्दों पर चर्चा एवं निर्णय लिया गया –
1.  सूचना के अधिकार के तहत भोपाल के शहरी डिस्पेंसरी की ढांचागत स्तिथि व मानक के आधार पर मिलाने वाली सेवाओं पर आवेदन किया जाना | आवेदन श्रीमती आशा पाठक द्धारा किया जायेगा एवं आवेदन फॉर्मेट अजय द्धारा तैयार किया जायेगा |
2. भोपाल के शहरी क्षेत्र से 9 डिस्पेंसरी (4 व्ही.आई.पी. व 5 सामान्य सिविल डिस्पेंसरी) से प्रपत्र के माध्यम जानकारी निकली जाएगी |
3. डिस्पेंसरी से जानकारी निकालने के लिए प्रपत्र तैयार किया जायेगा |
4. 8 सितम्बर 2016 को संभाग स्तर भोपाल में मीडिया उन्मुखीकरण कार्यशाला किया जायेगा जिसमे छिन्दवाड़ा, बैतूल, रायसेन, विदिशा, सिहोर एवं भोपाल के मीडिया साथी भाग लेंगे |
5. भोपाल समूह का मुख्य कार्य विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर पैरोकारी का होगा | समूह को स्वतंत्र रखा जायेगा जिससे समूह में अनेक विचार धारा के साथियों का स्वागत एवं बैठक में विचारो पर मंथन होता रहेगा |
6. समूह ने स्वास्थ्य के मुद्दों को प्राथमिकता रखा है |  
7. शहरी क्षेत्र की स्वास्थ्य स्तिथि पर कैंपेन आयोजित का प्लान किया गया |
8. मीडिया उन्मुखीकरण कार्यशाला की पूर्व तैयारी समीक्षा बैठक 5 सितम्बर 2016 को किया जायेगा |  

_________________________________________________________________

सेवा से किया इंकार, जच्चा बच्चा की मौत – श्योपुर

दिनांक – 20 अगस्त 2016

सोना बाई पति मुकेश आदिवासी ग्राम डावली निवासी को प्रसव पीड़ा होने पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र दुर्गापुरी में भर्ती कराया गया जहा पर नर्स द्धारा ओपचारिक जाँच के बाद नर्स द्धारा एक सप्ताह बाद का प्रसव का समय दिया और घर जाने को कहा परन्तु घर ले जाते समय रस्ते पर प्रसव हो गया | लेकिन प्रसव के कुछ देर बाद ही बच्चे की मौत हो गयी, और कुछ देर बाद महिला की मौत हो गयी |

विस्तृत खबर पड़ने के लिए क्लीक करे

http://epaper.patrika.com/c/12616860

_________________________________________________________________

प्रसव के बाद नहीं मिली ईलाज, महिला ने तोडा दम – मुरैना

दिनांक – 13 अगस्त 2016

बेरई गांव निवासी सोमवती को प्रसव पीड़ा होने पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सबलगढ़ में भर्ती कराया गया था जहा पर सोमवती ने एक स्वस्थ बेटे को जन्म दिया पर कुछ देर बाद रक्त स्राव होने पर जिला अस्पताल मुरैना रेफर किया गया जहा पर डॉक्टर ने सोमवती को मृत घोषित कर दिया |

विस्तृत न्यूज़ के लिए क्लीक करे

http://epaper.bhaskar.com/morena/277/13082016/mpcg/1/

_________________________________________________________________

भोपाल स्थानीय संस्थाओं की बैठक – भोपाल

दिनांक 10 अगस्त 2016 को भोपाल स्तर पर स्थानीय संस्थाओ के साथ दूसरी बैठक सोचारा ऑफिस में की गयी जिसमे भोपाल स्थानीय स्तर के विभिन्न संस्थाओं के 12 साथी उपस्थित थे
बैठक के मुख्य निर्णय –
1) मातृत्व स्वास्थ्य पर एक दिससीय मीडिया उन्मुखीकरण कार्यशाला 27 अगस्त 2016 को होना तय हुआ है |
2) संदर्भ व्यक्ति – एल.एस. हर्दवानी, राकेश दीवान और सचिन जैन
3) आज दिनांक को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के साथ सीधी की दो केसो के सिलसिले पर चर्चा के लिए चार साथी जायेंगे |
 
विस्तृत रिपोर्ट सलंग्न ______________________________________________________________

दो अस्पतालों के बीच, प्रसूता की गयी जान – सिंगरौली

तिरवई खुर्द निवासी अजय पण्डे की पत्नी प्रितू कोप्रसव पीड़ा होने पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खुटार ले गया जहा पर चिकित्सकीय असुविधा के कारण जिला अस्पताल रेफर किया गया | लेकिन जिला अस्पताल में समुचित उपचार नहीं मिलाने के कारण महिला की मौत हो गयी |

विस्तृत न्यूज़ के लिए क्लीक करे

http://epaper.patrika.com/c/12290266

_________________________________________________________________

प्रसूता गेट में कहारती रही, नवजात की मौत – मैहर

दिनांक – 6 अगस्त 2016

नया गांव अमदरा की वर्षा पति भैयालाल का प्रथम प्रसव था  पीड़ा के बाद बैयालाल ने सिविल अस्पताल मैहर ले गया जहा पर स्त्रीरोग विशेषज्ञ की ना होने की हवाला देते हुए नर्सो ने कहा की ईलाज के लिए स्त्रीरोग विशेषज्ञ के घर जाने का सुझाव दिया | बाद में नर्सो ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया |

विस्तृत न्यूज़ के लिए क्लीक करे

http://epaper.patrika.com/c/12289627

_______________________________________________________

टीका लगाने के 12 घंटे बाद बच्चे की मौत – सतना

दिनांक – 4 अगस्त 2016

उपस्वास्थ्य केंद्र सीजहटा  में पेंटाबैलेट टीका लगाने से अंशु नमक डेढ़ माह के बच्चे की मौत हो गयी |

विस्तृत खबर पड़ने के लिए क्लीक करे

http://epaper.patrika.com/c/12239579

_________________________________________________________________

बच्च्दानी में कपड़ा ठूसने से हुई प्रसूता की मौत – दतिया

दिनांक – 3 अगस्त 2016

स्रोत – रूबरू न्यूज़, दतिया

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, इन्दरगढ़ में पिंकी पत्नि राहुल कोरी का प्रसव उपरांत रक्तस्राव रोकने के लिए बच्चेदानी में कपड़ा ठूँसने के बाद हालत बिगड़ने पर जिला चिकित्सालय, दतिया  रैफर किया परन्तु उपचार शुरू करने के पहले ही प्रसूता की मौंत हो गई। जबकि प्रसूता ने स्वस्थ्य बच्चे को जन्म दिया था।

विस्तृत न्यूज़ के लिए क्लीक करे

http://www.rubarunews.com/2016/08/blog-post_41.html#more

_________________________________________________________________

 प्रसव कक्ष से नवजात की शव को ले गया कुत्ता – सतना

दिनांक – 3 अगस्त 2016

सायरा बानो पति मकबूल अहमद प्रसव पीड़ा होने पर 31 जुलाई 2016 की रात को जिला अस्पताल सतना में भर्ती कराया गया था  जहा पर बानो ने मृत बच्चा को जन्म दिया | इसके बाद प्रसूता के पलंग के नीचे नवजात की शव को रखा दिया जहा देर रात आवारा कुत्ता ने शव को ले भगा |

विस्तृत न्यूज़ के लिए क्लीक करे

http://naiduniaepaper.jagran.com/Article_detail.aspx?id=21130&boxid=46507&ed_date=2016-8-03&ed_code=57&ed_page=4

_________________________________________________________________

जिला स्तरीय बैठक – मुरैना

दिनांक – 2 अगस्त 2016

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत मुरैना जिला स्तरीय बैठक धरती संस्था के कार्यालय में आयोजित किया गया | इस बैठक में मातृत्व स्वास्थ्य सेवा एवं मातृ मृत्यु पर चर्चा की गयी  |

जल्द ही विस्तृत रिपोर्ट साझा किया जायेगा

________________________________________________________

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत रेवांचल संभाग व जिला स्तरीय बैठक – रीवा

दिनांक – 28 जुलाई 2016

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत रेवांचल संभाग में दिनांक 28 जुलाई 16 को कृष्णा धर्मशाला, रीवा में बैठक हुई | जिसमे अभियान के 17 साथी उपस्तिथ थे और निम्न मुद्दे पर चर्चा और निर्णय लिए गए |

1) अभियान की कामो पर चर्चा की गई (मई से जून)
– जन संवाद में उठाए गए केसों पर शासकीय पहल
– फेलोशिप प्रोग्राम
– न्यूज़ और ब्लॉग
– न्यूज़ लेटर के लिए आर्टिकल (मुख्य) और संस्था प्रोफाइल
– अभियान को जिले स्तर पर विस्तार करना
– ई लर्न सी बी एम्
– व्हाट्स अप्प ग्रुप
3) CBM रिपोर्ट के अधर पर जिलेवार प्लान  
4) मीडिया वर्कशॉप, संभाग स्तर 
5) RTI
6) न्यूज़ में प्रकाशित केस को जिले में भी पहल करने की जरुरत 
7) स्वास्थ्य ढांचागत स्तिथि का जिला प्रोफाइल  
8) CBM जानकारी के आधार पर रिपोर्ट कार्ड 
निर्णय – 
– जिलेवार स्वास्थ्य की ढांचागत स्तिथि की प्रोफाइल तैयार किया जायेगा |
– सूचना के अधिकार के तहत जिले की विगत छ: माह  में  हुई मातृत्व मृत्यु  व उस पर की गयी समीक्षा  की जानकारी के लिए दो से तीन दिन में आवेदन किया जायेगा |
– CBM रिपोर्ट के तहत संभाग के सभी जिलो के साथियों ने प्रत्रकार, स्वास्थ्य विभाग एवं स्थानीय संस्थाओं को जोड़कर संवाद  |
– मीडिया के साथिओं के साथ मातृ मृत्यु समीक्षा (केस स्टेडी) पर संभाग स्तर पर वर्कशॉप आयोजित करना चाहिए जिसमे मीडिया के 2 एवं अभियान के 2 साथी की भागीदारी हो |
– न्यूज़ पेपर द्धारा प्रकाशित मातृत्व स्वास्थ्य की घटनाओं को जिस प्रकार से राज्य स्तर पर  आवेदन किया जाता है ठीक उसी प्रकार से जिला स्तर पर हमें करना चाहिए |
– अभियान के साथी जिले स्तर पर नियमित मासिक बैठक करने का निर्णय लिया |
बैठक में उपस्तिथ साथी – अरुण त्यागी जी, शेषमणि, सावित्री, भोला भाई, केदार, उमा सेन, अजय एवं 10 अन्य साथी   |

_________________________________________________________________

नसबंदी के बाद गर्भवती हुई महिला – सीधी 

दिनांक – 22 जुलाई 2016

स्रोत – पत्रिका न्यूज़, सीधी

सीधी जिले की देवरहा निवासी संतोषी ने 22 फरवरी 2014 को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सपही में नसबंदी शिविर के दौरान  नसबंदी करवा चुकी थी परन्तु दो साल बाद संतोषी फिर से गर्भवती हुई है  | ऑपरेशन फेल होने की शिकायत स्वास्थ्य विभाग को संतोषी के पति द्धारा करने का प्रयास किया जा रहा है |

विस्तृत न्यूज़ के लिए क्लीक करे

http://epaper.patrika.com/881820/Singrauli-Patrika/22-07-2016#page/1/1

___________________________________________

जिला स्तरीय बैठक – भिंड

दिनांक – 21 जुलाई 2016 मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत भिंड जिले के bhind mhrc news, nai duniya(24-7-16)साथिओं के सहयोग से जिला स्तरीय बैठक की गयी जिसमे जिला समन्वयक आर एस गौर एवं अभियान के वरिष्ठ साथी पहलवान सिंह के अतिरिक्त 20 साथियों ने भाग लिया |  इस बैठक में संस्था के साथिओं के साथ साथ मीडिया साथिओं ने भी भाग लिया था | इस बैठक में मातृत्व स्वास्थ्य पर मीडिया के सहयोग से मुद्दे को उठाना और विभाग के साथ पैरोकारी करना, सामुदायिक निगरानी के तहत जानकारी के आधार पर जिला स्तर पर गतिविधि, मीडिया कार्यशाला  आदि पर चर्चा किया गया |

________________________________________________________

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत चम्बल संभाग स्तरीय बैठक – ग्वालियर

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत चम्बल संभाग में दिनांक 20 जुलाई को संभाग समन्वयक (देवेन्द्र जी) के आवास स्थल, ग्वालियर में बैठक हुई | जिसमे अभियान के 9 साथी उपस्तिथ थे और निम्न मुद्दे पर चर्चा और निर्णय लिए गए |
1) अभियान की कामो पर चर्चा की गई (मई से जून)
– जन संवाद में उठाए गए केसों पर शासकीय पहल
– श्योपुर में हुई मोतियाबिन ऑपरेशन से हुई घटनाओं पर पहल
– फेलोशिप प्रोग्राम
– अभियान का विस्तार
– न्यूज़
– न्यूज़ लेटर के लिए आर्टिकल (मुख्य) और संस्था प्रोफाइल
– अभियान को जिले स्तर पर विस्तार करना
– भोपाल जिला व शहरी क्षेत्र में स्वास्थ्य की ढांचागत स्तिथि   
– ई लर्न सी बी एम्
– भोपाल स्तर की बैठक में हुई चर्चा को साझा किया गया
3) CBM रिपोर्ट के अधर पर जिलेवार प्लान  
4) मीडिया वर्कशॉप, संभाग स्तर 
5) RTI
6) न्यूज़ में प्रकाशित केस को जिले में भी पहल करने की जरुरत 
7) स्वास्थ्य ढांचागत स्तिथि का जिला प्रोफाइल  
8) CBM जानकारी के आधार पर रिपोर्ट कार्ड 
निर्णय – 
– जिलेवार स्वास्थ्य की ढांचागत स्तिथि की प्रोफाइल तैयार किया जायेगा | यह काम अगस्त माह तक फाइनल किया जायेगा |
– सूचना के अधिकार के तहत जिले की विगत छ: माह  में  हुई मातृत्व मृत्यु  व उस पर की गयी समीक्षा  की जानकारी के लिए दो से तीन दिन में आवेदन किया जायेगा |
– CBM रिपोर्ट के तहत चम्बल संभाग में सभी जिले एक समूह के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग के साथ CBM रिपोर्ट कार्ड का साझा |
– मीडिया के साथिओं के साथ मातृ मृत्यु समीक्षा (केस स्टेडी) पर संभाग स्तर पर वर्कशॉप आयोजित करना चाहिए जिसमे मीडिया के 3 एवं अभियान के 1 साथी की भागीदारी हो |
– न्यूज़ पेपर द्धारा प्रकाशित मातृत्व स्वास्थ्य की घटनाओं को जिस प्रकार से राज्य स्तर पर  आवेदन किया जाता है ठीक उसी प्रकार से जिला स्तर पर हमें करना चाहिए |
निम्न दिनांको पर जिला बैठक करने का निर्णय लिया गया 
– 21 जुलाई 2016  – भिंड
– 24 जुलाई 2016  – दतिया
– 29 जुलाई 2016  – मुरैना
बैठक में उपस्तिथ साथी – देवेन्द्र भदोरिया, पहलवान सिंह, रामजी शरण राय, नितिन शिवहरे, योगेन्द्र सिंह जादौन, संदीप सेंगर, आर. एस. गौर, एस आर चतुर्वेदी और अजय लाल |

________________________________________________________

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत भोपाल  संभाग स्तरीय बैठक

CPHE (सोचारा) ऑफिस, भोपाल
दिनांक 12 जुलाई 2016
इस बैठक में  निम्न मुद्दे पर चर्चा और निर्णय लिए गए –
1) अभियान की कामो पर चर्चा की गई (मई से जून)
– जन संवाद में उठाए गए केसों पर शासकीय पहल
– श्योपुर में हुई मोतियाबिन ऑपरेशन से हुई घटनाओं पर पहल
– फेलोशिप प्रोग्राम
– अभियान का विस्तार
– न्यूज़
– न्यूज़ लेटर के लिए आर्टिकल (मुख्य)
– अभियान को जिले स्तर पर विस्तार करना
2) गतिविधियों की जानकारी 
– भोपाल जिला व शहरी क्षेत्र में स्वास्थ्य की ढांचागत स्तिथि   
– ई लर्न सी बी एम्
– भोपाल स्तर की बैठक में हुई चर्चा को साझा किया गया
3) CBM रिपोर्ट के अधर पर जिलेवार प्लान  
4)  भोपाल स्तर में  अभियान की कार्य की भूमिका 
निर्णय – 
– जिलेवार स्वास्थ्य की ढांचागत स्तिथि की प्रोफाइल तैयार किया जायेगा
– सूचना के अधिकार के तहत जिले की विगत एक वर्ष में  हुई मातृत्व मृत्यु  व उस पर की गयी समीक्षा  की जानकारी
– CBM रिपोर्ट के तहत निम्न जिलो में निम्न प्रकार की गतिविधि की जाएगी
1. छिंदवाडा – मीडिया और संस्थाओ के साथ साझा किया जायेगा |
2. सीहोर – संस्थाओं के साथ साझा किया जायेगा |
3. विदिशा –   संस्थाओं के साथ साझा किया जायेगा |
4. बैतूल और रायसेन से साथी नहीं आ पाने के कारण निर्णय नहीं हो पाया
इसके साथ ही सोचारा समूह के फेलो साथिओं को जोड़ने की बात की गयी और भोपाल स्तर पर मीडिया, समुदाय और उच्च स्तर पर काम करने पर बात की गयी | साथियों ने जिले स्तर पर बैठक कर अभियान को विस्तार करने की बात की |
बैठक में भागीदारी – 
1) स्मृति – साथिया, सिहोर
2) निधि – सोचारा, भोपाल
3) अली – सोचारा, भोपाल
4) अशोक मंद्रे – सत्यकाम जनकल्याण समिति, छिंदवाडा
5) सुधीर भाई – प्रसून, विदिशा
6) विशाल – सोचारा फेलो
7) आज़म – सी एच एस जी, फेलो
8) अजय – सी एच एस जी, भोपाल

________________________________________________________

स्थानीय संस्था व संगठनो के साथ भोपाल स्तरीय बैठक,

MPLSSM, कार्यालय, भोपाल

2 जुलाई 2016

मातृत्व स्वस्थ्य हकदारी अभियान, मध्य प्रदेश पिछले 4 वर्षो से मातृत्व स्वास्थ्य पर प्रदेश के विभिन्न जिलों में संस्थाओं के साथ कार्य कर रही है | भोपाल स्तर पर मातृत्व और शिशु स्वस्थ्य में हो रही सेवाओं की गुणवत्ता, सेवाओं की पहुँच और सेवाओं में गंभीर उल्लंघन के मामलों को ध्यानमे रखते हुए भोपाल स्तर के स्थानीय स्वमं सेवी संस्था व संगठनो की बैठक 2 जुलाई 2016 को एम् पी एल एस एस एम्, शाहपुरा भोपाल के कार्यालय में आयोजित किया गया | स्थानीय स्वमं सेवी संस्था व संगठनो को एकजुट करने की पहल अभियान द्धारा किया गया | इस बैठक में निम्न मुद्दे पर चर्चा की गयी –

  1. अभियान का परिचय व काम
  2. मातृत्व व शिशु स्वास्थ्य पर चर्चा
  3. कार्ययोजना
  4. आगामी बैठक

MHRC के साथी ने अभियान की भूमिका और बैठक की आवश्यकता का उल्लेख करते हुए सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया | साथ ही बैठक में उपस्थित साथिओं ने अपना-अपना परिचय से किया  जिसमे साथिओं ने अपने  नाम, संस्था का नाम और मुद्दे आधारित काम का उल्लेख किया |

साथियों के परिचय के बाद अभियान द्धारा प्रदेश के विभिन्न जिलों में हुई मातृ व शिशु मृत्यु और सेवाओं में उल्लंघन के मामलों पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के साथ-साथ प्रदेश के अलग-अलग आयगों के समक्ष दाखिल प्रकरणों का प्रस्तुतीकरण किया गया साथ ही प्रकरणों में आयें उत्तरों का उल्लेख किया गया |

प्रस्तुतीकरण के बाद अन्य मुद्दों पर चर्चा हुयी जैसे श्योपुर में नेत्र शिविर की घटना को MHRC द्धारा NHRC के समक्ष उठाया गया |

मध्य प्रदेश MPLSSM द्धारा पिछले तीन सालों में किये गए स्वस्थ्य अध्ययन एवं उस पर शासकीय प्रतिक्रियाओं का अनुभव साझा किया गया |

स्मृति, साथिया द्धारा वर्तमान में MHRC जन संवाद के फॉलो उप का उल्लेख किया गया जिसमे की विभाग द्धारा अभियान की भागीदारी का कहने के वावजूद मामलों की जाँच किये जाने का उल्लेख किया गया |

NCDHR एवं अन्य साथिओं द्धारा भी अभियान को सशक्त करने के लिए सुझाव दिए गए |

सभी साथिओं की सहमती से निम्नलिखित सुझाव प्राप्त हुए –

  1. भोपाल स्तर पर टीम का गठन किया जाये
  2. राज्य स्तर पर जिलो में स्थित संस्थाओं की मैपिंग की जाय |
  3. जिले स्तर पर मीडिया साथिओं का प्रशिक्षण के पहले स्थानीय स्तर पर प्रशिक्षण की आवश्यकता का मूल्यांकन करना एवं संस्थाओं के सुझाव लेना चाहिए |
  4. प्रशिक्षण के पहले प्रतिभागियों से विषय सम्बंधित जानकारी लेना |
  5. घटना के अधिकता वाले जिलो (सतना, श्योपुर, सीधी आदि) में प्रशिक्षण आयोजित होने चाहिए |
  6. प्रशिक्षणों में स्थानीय मीडिया साथी का कार्यक्रम में होना अभियान के लिए महत्वपूर्ण होगा |
  7. घटनाओं की रिपोर्टिंग के लिए 7-8 सवालों का एक फॉर्मेट विकसित किया जाना चाहिय | जिससे की रिपोर्ट के आधार पर होने वाली फैक्ट फीडिंग अथवा अन्य कोई काम आगे सुनिश्चित किया जा सके |
  8. संस्थानों के जिला से ग्राम स्तर तक संपर्को का उपयोग हो सके ऐसी रणनीति बनायीं जाये |
  9. घटनाओ के संकलन के बाद संस्थाओं को जिला स्तर पर सरकार के साथ रिपोर्ट को साझा किया जाना चाहिए |
  10. फेसबुक पेज का निर्माण करना चाहिए |
  11. व्हाट्स अप्प ग्रुप का निर्माण करना चाहिए |
  12. अगली बैठक में बजट से सम्बंधित उन्मुखीकरण निर्मल भाई द्धारा होना चाहिए |

बैठक में उपस्तिथि

राजेश भदोरिया, उपासना, स्मृति, आज़म, निर्मल, मंजू और अजय

अगली बैठक साथिया संस्था के कार्यलय में अगस्त के दूसरी सप्ताह में तय किया गया

_________________________________________________________________

अभियान के तहत जिला स्तरीय बैठक – सीधी

दिनांक – 11 अप्रैल 2016IMG_20160411_121546

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के तहत सीधी जिले में बैठक की गई जिसमे राज्य स्तरीय जन संवाद की तैयारी में सीधी जिले के साथिओं की क्या भूमिका हो सकती है और जन संवाद में जिले से कितने साथी भागीदारी करेंगे और कितने केस अपने साथ साक्ष्य के रूप में ले कर जायेगे इस विषय पर चर्चा की गई  |

विस्तृत रिपोर्ट के लिए यहाँ दबाये 


राज्य स्तरीय जन संवाद कार्ययोजना बैठक – भोपाल

दिनांक 10 मार्च 2016 को पस्टोरल सेंटर भोपाल में राज्य स्तरीय जन संवाद कार्ययोजना बैठक की गयी जिसमे राज्य समन्वय एवं संभन समन्वय समिति के सदस्यों ने भागीदारी की | राज्य स्तरीय के इस बैठक में निम्न मुद्दे पर चर्चा के साथ साथ कुछ महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए –

बैठक में निम्न मुद्दे पर चर्चा की गयी – 

1) तृतीय चरण सामुदायिक निगरानी के तहत एकत्र आंकड़े की स्तिथि का साझा

2) फ्लोशिप कार्यक्रम की जानकारी   3) मध्य प्रदेश स्वस्थ्य रिपोर्ट कार्ड की जानकारी

4) अभियान के कामो का साझा  5) राज्य स्तरीय समिति का विकेंद्रीकरण

6) ई लर्न सी बी एम् की जानकारी  7) राज्य स्तरीय जन संवाद

उपरोक्त मुद्दे के आधार पर सभी विषयो पर चर्चा की गयी परन्तु मुख्य रूप से राज्य स्तरीय जन संवाद पर लम्बी चर्चा हुई जिसका महत्वपूर्ण निर्णय निम्न है –

राज्य स्तरीय जन संवाद के लिए एक समूह का गठन किया गया जो जन संवाद में होने वाली अलग अलग गतिविधियों में सहयोग के रूप में काम करेगी |

कार्यक्रम समूह के नाम 

1)श्री अरुण त्यागी जी  2) देवेन्द्र जी 3) स्मृति शुक्ल 4) सुधीर भार्गव  5) निधि शुक्ल 6)योगेन्द्र जी 7) रामजी शरण 8) शेषमणि शुक्ला 9) सुशील भाई 10) उमा सेन 11) राकेश साहू 12) अशोक मंद्रे 13) अजय लाल

जन संवाद आयोजक स्थल – गाँधी भवन या मानस भवन

जन संवाद की तारीख – 20 से 22 अप्रैल 2016 के बीच

मुख्य अतिथि के रूप में 

1) एन एच एम् –  निर्देशक, सचिव व आयुक्त

2) आयोग – एस टी, एस एच आर सी, महिला आयोग आदि

3) जन प्रतिनिधि – विधायक व संसद आदि

4) सामाजिक कार्यकर्ता – पत्रकार, जन स्वस्थ्य अभियान, एच आर एन एल, संगठन आदि

जन संवाद में साथिओं की जवाबदारी और भूमिका

श्री त्यागी जी, रामजी शरण और सुधीर भाई – स्वस्थ्य विभाग के अधिकारिओं को अतिथि के रूप में आमंत्रण

श्री त्यागी जी और सुधीर भाई – विधायक व संसद को अतिथि के रूप में आमंत्रण

श्री निर्मल भाई – पत्रकार

 मंच संचालन – 1) स्मृति शुक्ल   2) सावित्री सिंह     3) शेषमणि जी

पंजीयन  – 1) आर एस गौर 2) उमा सेन

प्रस्तुतीकरण  – 1)  राकेश साहू   2) स्मृति शुक्ल    3) उमा सेन

मिडिया प्रबंध –  1) निर्मल भाई   2) राकेश साहू

फोटोग्राफी    –   1) चंद्रप्रकाश   2) जीतेंद्र प्रजापति व अन्य एक 

हेंडआउट व बैनर  –  1) अजय लाल 

दस्तावेजीकरण   =  1) सैयद अली   2) पूजा    3) निधि शुक्ल

भोजन व्यवस्था   –  1) शेषमणि जी  2) गौर जी   3) नितिन भाई    4) योगेन्द्र जी

लेखा जोखा   – 1) जहाँगीर अंशारी 2) राकेश साहू

प्रदर्शनी  – अभियान के सभी साथी अपने जिले स्तर में मातृत्व स्वस्थ्य के खबरों या सेवाओं की अच्छी व ख़राब (vhnd, gak, phc etc ) स्तिथि को फोटो के माध्यम से प्रदर्शनी लगाने में सहमती बनी |

_________________________________________________________________

रोशनी की उम्मीद में आये पर मिला जीवन भर का अंधकार – श्योपुर

16-18 फरवरी 2016

स्वस्थ्य विभाग द्धारा जिला अस्पताल श्योपुर में मोतियाबिन

ऑपरेशन शिविर का आयोजन किया गया था जिसमे जिले भर से कुल 66 मरीजों का ऑपरेशन किया गया था | ऑपरेशन के 45 दिन बाद जब मरीजों के आँखों के टांके काटे गए तो 17 मरीजों को कम या नहीं दिखने की शिकायत की, पर स्वस्थ्य विभाग ने मरीजों को पुन: जाँच का आश्वासन देते हुए घर भेज दिया | मोतियाबिन ऑपरेशन से प्रभावित मरीजों की वास्तविक स्तिथि को जानने के लिए MHRC ने एक टीम की गठन की और जिले का दौरा किया | इस टीम के माध्यम से उन 17 मरीजो के साथ चर्चा कर जानकारी एकत्र करने का काम किया गया जिसमे 8 मरीजो की आँखों से बहुत ही कम या नहीं दिख रहा था | टीम ने इस जानकारी के आधार पर एक रिपोर्ट तैयार कर राष्ट्रीय मानवधिकार आयोग, नई दिल्ली को देने की बात की है जिससे प्रभावित हितग्राही को अपने जीवन यापन के लिए स्वस्थ्य विभाग सहयोग कर सके |

आंकड़े एकत्रित एवं दस्तावेजीकरण कार्यशाला – भोपाल

दिनांक – 11-12 जनवरी 2016
स्थान – आईकफ आश्रम, भोपाल

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के 10 साल पूर्ण होने के बाद भी मातृत्व स्वास्थ्य की सुविधाओ में बहुत हद तक सुधर नहीं हो पाया है और मातृ मृत्यु को भी शासन ने अपेक्षा से बहुत कम कर पाया है| अगर हम सुविधाओं की बात करे तो जमीनी स्तर में आज के तारीख में भी सम्पूर्ण रूप से प्रसव पूर्व जाँच नहीं हो पा रही है | शासन द्वारा संचालित योजनाओ और सेवाओ को जमीनी स्तर पर क्रियान्वयन में मदद और समय समय पर शासन के साथ पैरोकारी का काम मातृत्व स्वस्थ्य हकदार अभियान प्रदेश के विभिन्न जिलों में कर रही है | इसी संदर्भ में 11-12 जनवरी 2016 को भोपाल में

अभियान के साथियों के साथ कार्यशाला किया गया जिसमे प्रदेश के 15 जिलो से 27 साथिओं ने भाग लिया| यह कार्यशाला मुख्यतः प्रदेश शासन के समक्ष मातृत्व स्वस्थ्य पर राज्य स्तरीय पैरोकारी का है | इस दो दिवसीय कार्यशाला में साथिओं के साथ निम्न मुद्दों पर चर्चा की गयी – सार्वजनिक स्वस्थ्य प्रणाली, मातृत्व स्वस्थ्य योजनाये,पैरोकारी में फोटोग्राफी की उपयोगिता, सामुदायिक आधरित निगरानी और केस दस्तावेजीकरण इसके साथ ही जानकारी एकत्र करने के लिए प्रपत्र पर अभ्यास किया गया | जानकारियों का आदान प्रदान के बाद कार्ययोजना पर चर्चा की गयी | कार्ययोजना में प्रपत्र के द्वारा प्रत्येक जिले से अभियान के साथी द्वारा जानकारी निकालने का काम किया जायेगा जो निम्न है – 1 CHC के अंतर्गत 2 PHC 4 SHC, 4 GAK, 4 VHND, 2 नसबंदी कैंप, 2-2 साक्षात्कार (PHC/VHND) आदि पर जानकारी निकालना निर्धारित किया गया | जिले के सभी साथियों को जानकारी एकत्रित से सम्बंधित प्रपत्र दिया गया |

_________________________________________________________________

चम्बल संभाग स्तरीय बैठक – मुरैना

तारीख 4 जनवरी 201

मातृत्व स्वस्थ्य हकदारी अभियान का संभाग स्तरीय बैठक संभाग क,समन्वयक व राज्य समिति के सदस्य श्री देवेन्द्र भदोरिया जी के नेतृत्व में धरतीsharedसंस्था के कार्यालय,  0मुरैना में आयोजित किया गया | इस बैठक में 4 जिले के 20 साथिओं ने भाग लिया | इस बैठक में मुख्य रूप से संभाग स्तरीय समूह का गठन व राज्य स्तरीय जन संवाद पर चर्चा किया गया | इस बैठक में उपस्थित सदस्यों की सर्वसहमति से संभाग स्तर की समिति का गठन किया गया जो इस िप्रकार है – भिंड – एस आर गौर, दतिया – रामजी शरण राय, श्योपुर – प्रमोद तिवारी और मुरैना से योगेन्द्र सिंह जादौन | इसके साथ ही और कई सारे महत्व पूर्ण विषयो पर निर्णय लिया गया जैसे – संभाग समिति की भूमिका, जिले में MHRC को मजबूत बनाना, तीन माह में संभाग और जिले स्तर की बैठेके करना, स्वेक्षिक रूप से राज्य जन संवाद के लिए जानकारी निकलना, मातृत्व हनन से सम्बंधित केस एवं दस्तावेज साझा करना और राज्य स्तर कि जन संवाद में सहयोग प्रदान करना |___________________________________________

रेवांचल संभाग स्तरीय बैठक – सतना

तारीख 4 जनवरी 2016

मातृत्व स्वस्थ्य हकदारी अभियान का संभाग P1080430स्तरीय बैठक संभाग समन्वयक श्री अरुण त्यागी जी के नेतृत्व में कृष्णा भवन, सतना में आयोजित किया गया | इस बैठक में 7 जिले के 19 साथिओं ने भाग लिया | इस बैठक में मुख्य रूप से संभाग स्तरीय समूह का गठन व राज्य स्तरीय जन संवाद पर चर्चा किया गया |

–  समूह ने जिला स्तर समूह बनाकर बैठक करने की बात कही और जिला स्तर पर नयी संस्थाओं व वरिष्ठ पत्रकार और सामाजिक सोच रखने वाले समूह को जोड़ने की बात कही | साथ ही जिला स्तर पर हनन के केस व स्वस्थ्य की खबरों को साझा करेंगे |
– राज्य स्तरीय जन संवाद पर साथिओं का मत था की हमें राज्य स्तर पर जन संवाद के लिए स्वस्थ्य की वर्तमान स्तिथि को दर्शाने की आवश्यकता है इसके लिए ह्में केस व जमीन की वाश्ताविक स्तिथि को निकालने की आवश्यकता है | सभी सदस्यों की मत से यह निर्णय लिया की 1CHC, 2PHC, 2आरोग्य केंद्र, 2VHND और कम से कम 5 केस की जानकारी निकली जाएगी |
– जानकारी एकत्र करने के लिए प्रशिक्षण 11-12 जनवरी 2016 को तय किया गया  |

___________________________________________

दिनांक – 29 दिसम्बर 2015 2

मातृत्व स्वस्थ्य हकदारी अभियान के तहत जिला स्तरीय बैठक सीधी में की गयी | बैठक में निम्नांकित मुद्दे पर चर्चा की गयी है – जिला स्तर पर अभियं को मजबूत करना, अभियान के ब्लॉग पर चर्चा, मातृ मृत्यु पर चर्चा एवं नये सदस्यों को जोड़ने पर चर्चा | इस बैठक में जिले की संस्थाओं से  कुल 8 सदस्य शामिल थे |

विस्तृत रिपोर्ट के लिए यहाँ दबाये

MHRC meeting – Sidhi

______________________________________________________

राज्य स्तरीय बैठक – भोपाल 

दिनांक – गाँधी भवन, भोपाल
गाँधी भवन भोपाल में मातृत्व स्वस्थ्य हकदारी अभियान की संभाग स्तरीय बैठक की गयी जिसमे निम्नाकित मुद्दों पर चर्चा की गयी |P1080416
१) संभाग स्तरीय समूह का गठन
२) समूह की जवाबदारी
३) न्यूज़ लेटर
४) ब्लॉग
५) राज्य स्तरीय जन संवाद और कार्ययोजना
बैठक में लिए गए मुख्य निर्णय
– संभाग स्तरीय समूह का गठन किया गया सदस्यों का नाम इस प्रकार है – भोपाल – निधि शुक्ल, बैतूल – जीतेंद्र, छिंदवाडा – अशोक मंद्रे, होशंगाबाद – शल्पी ठाकुर, सिहोर – स्मृति, रायसेन – डॉ सेन और विदिशा से सुधीर कुमार |
–  समूह ने जिला स्तर समूह बनाकर बैठक करने की बात कही और जिला स्तर पर नयी संस्थाओं व वरिष्ठ पत्रकार और सामाजिक सोच रखने वाले समूह को जोड़ने की बात कही | साथ ही जिला स्तर पर हनन के केस व स्वस्थ्य की खबरों को साझा करेंगे |
– राज्य स्तरीय जन संवाद पर साथिओं का मत था की हमें राज्य स्तर पर जन संवाद के लिए स्वस्थ्य की वर्तमान स्तिथि को दर्शाने की आवश्यकता है इसके लिए ह्में केस व जमीन की वाश्ताविक स्तिथि को निकालने की आवश्यकता है | सभी सदस्यों की मत से यह निर्णय लिया की 1CHC, 2PHC, 2आरोग्य केंद्र, 2VHND और कम से कम 5 केस की जानकारी निकली जाएगी |
– जानकारी एकत्र करने के लिए प्रशिक्षण 11-12 जनवरी 2016 को तय किया गया  |
बैठक में निम्न जिलो के साथी उपस्तिथ थे –
१) स्मृति – साथिया, सिहोर
२) मंजिरी – परार्थ समिति, छिंदवाडा
३) अशोक मंडे – सत्यकाम जन कल्याण समिति
४) जीतेंद्र प्रजापति – साथिया, बैतूल 
५) सुधीर कुमार – प्रसून, विदिशा 
६) शिल्पी ठाकुर – महिला जनकल्याण सेवा समिति, होशंगाबाद
७) सय्यद अली – सोचारा, भोपाल 
८) निर्मल दस – NCDHR, भोपाल 
९) चन्द्रप्रकाश – KSS, रायसेन 
१०) अजय लाल – CHSJ, भोपाल 
_____________________________________________________
जिला स्तरीय मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान (MHRC) की बैठक, मुरैना
10 दिसम्बर 2015
 
मातृत्व स्वस्थ्य अभियान के तहत जिला स्तरीय बैठक मुरैना में   अभियान के सहयोगी साथी धरती संस्था द्वारा आयोजित किया गया । जिसमे संभाग समन्वयक सहित 10 साथी उपस्तिथ थे । इस बैठक में सामुदायिक निगरानी के तहत दूसरे चरण में निकली गयी जनकारी को साझा  किया गया साथ  ही इस जानकारी के आधार पर जिला  स्तर पर जन संवाद करने की योजना बनायीं गयी । बैठक में संभाग स्तर पर समिति  गठन और राज्य स्तर  जन संवाद पर चर्चा की गयी । 
बैठक के निर्णय 
१) संभाग स्तरीय समिति का गठन व बैठक दिनांक 5 जनवरी 2016 को धरती संस्था के कार्यालय में किया जाना तय किया गया । 
२) जिला स्तर जन संवाद – 6 जनवरी 2016 को मुरैना में किया जाना जाना तय किया गया ।
३) जन संवाद के लिए मुरैना के सहयोगी साथी द्वारा स्वास्थ्य की वर्तमान स्तिथि और केस स्टोरी की तैयारी करने की बात की | 
४)  राज्य स्तर जन संवाद की तैयारी में सहमति ।
_____________________________________________________

जन संवाद – सिंगरौली

दिनांक – 24 नवम्बर 2015

मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान सिंगरौली के सहयोगी साथी अमृता सेवा संसथान समिति द्वारा दूसरी चरण में सामुदायिक निगरानी तहत सिंगरोली जिले की  बरगावा phc के अंतर्गत आंगनवाडी केंद्र ओडगडी  में जन संवाद आयोजित किया गया |  जन संवाद में जवाबदेह अधिकारी को संवाद में आने के लिए पत्र व बोला गया था परन्तु वे संवाद में नहीं आये |  उपस्तित लोगो ने मांग पत्र बना कर अगले १० दिनों में mo, phc और cmo से मिलाने की बात की गयी | जन संवाद में ६० से ७० महिला व पुरुष उपस्तिथ थे |
विस्तृत रिपोर्ट के लिए यहाँ दबाये
_____________________________________________________
जिला स्तरीय मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान (MHRC) की बैठक, बैतूल
20 अक्टूबर 2015 
साथिया वेलफेयर सोसाइटी, बैतूल के सहयोग से DSC02579 जिला स्तरीय बैठक बैतूल जिले के शाहपुरा विकासखंड में की गयी जिसमे १० सदस्यों ने भागीदारी की | बैठक में निम्न विषयों पर चर्चा की गयी –
१) स्मृति द्वारा बैठक में उपस्थित सदस्यों को मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के बारे में बताया गया साथ ही मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान को बैतूल जिले में विस्तार और मजबूत करने के लिए सभी साथिओं से सहयोग की अपेक्षा चाही |
२) मैंने दूसरी चरण में सामुदायिक निगरानी के तहत निकली गयी जानकारी के आधार पर जिले के मातृत्व स्वास्थ्य की स्तिथि को रखा साथ ही अभियान के blog और न्यूज़ लेटर के बारे में बताया |
३) मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान के साथी जीतेंद्र ने बैतूल जिले की स्वास्थ्य स्तिथि को रखा
४) जिले में जन संवाद योजना पर चर्चा की गयी | इस चर्चा में बैठक में उपस्तिथ सदस्यों ने सर्वसहमति से निम्न बिंदु पर विचार किया और संवाद कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए योजना बनाने में मदद किया |
– सामुदायिक निगरानी के तहत निकली गयी जानकारी
– वर्तवान में आरोग्य केंद्र की वास्तविक स्तिथि की जानकारी निकलना
– VHND की सेवाओं का अवलोकन करना
– हनन जैसे केसों को एकत्र कर दस्तावेजी करना
– संवाद कार्यक्रम को बेहतर बनाने के लिए जिले के अन्य संस्था के साथी को जोड़ना |
– इत्यादि
५) बैठक में उपस्तिथ साथिओं ने स्वास्थ्य पर हनन के अनुभवों को साझा किया
_____________________________________________________________________
जिला स्तरीय स्वास्थ्य हकदारी अभियान की बैठक, दतिया
9 अक्टूबर 2015 

दतिया जिले में मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान की बैठक स्वदेश ग्रामोत्थान समिति के संचालक रामजी शरण (एमएचआरसी, सदस्य) के द्वारा आयोजित की गयी | इस बैठक में संभाग समन्वय दवेंद्र भदोरिया जी सहित 19 सदस्य उपस्थित थे | देवेन्द्र जी
mhrc-datiyaद्वारा अभियान के उद्देश्यों, संरचना, संस्थाओं का जुड़ाव और कामों के बारे में बताया गया | साथ ही द्धितीय सामुदायिक निगरानी के तहत निकली गयी जानकारी को साझा किया गया | बैठक में उपस्थित सदस्यों ने स्वास्थ्य से जुडी मुद्दों पर अपने अनुभवों का साझा किया | द्धितीय सामुदायिक निगरानी की जानकारी के आधार पर जिला व विकासखंड स्तर पर जन संवाद आयोजित करने पर चर्चा किया गया कि अगर जन संवाद करना है तो हमें इस जानकारी के साथ-साथ निम्न केन्द्रों की सेवा व सुविधा की जानकारी निकालने की आवश्यकता होगी –

PHC सेवाओं की स्तिथि, VHND में सेवाओं की स्तिथि, आरोग्य केंद्र व उप स्वास्थ्य केंद्र की स्तिथि  सेवा से वंचित व डेथ केसो को एकत्रित करना आदि  इसके साथ ही बैठक में निम्नांकित मुद्दे पर चर्चा व निर्णय लिए ग20151011_091658-1ये  –

१) जन संवाद आयोजित के विषय पर चर्चा पर उपस्तिथ सदस्यों ने यह निर्णय लिया की दतिया जिले में एम एच आर सी समूह की गठन के बाद जन संवाद के स्थान का निर्णय लिया जायेगा |

२) एम एच आर सी को जिले में मजबूत बनाने में नये सदस्यों व संस्थाओं को शामिल करना और निरंतर दो माह में बैठक आयोजित करना

३) बैठक में नये सदस्यों ने भागीदारी होने के कारण एम एच आर सी की ढांचागत स्तिथि और अभियान के उद्धेश्यो के बारे में बताया गया

विस्तृत रपोर्ट के लिय यहाँ दबाये

Meeting report, Datiya

_____________________________________________________________________

मैटरनल डेथ ऑडिट, सतना 
25 सितम्बर 2015
मैटरनल डेथ केस के सिलसिले में 25 – 26  सितम्बर 2015 सतना जिले का दौरा किया गया इस दौरे में दो प्रकार के केसों का ऑडिट किया गया | साथ ही जिला स्तर पर एम एच आर सी सदस्यों के साथ बैठक की गयी
interview -
केस 
१) 9 सितम्बर 2015 को जिला अस्पताल में सुविधा के अभाव और डॉक्टर की लापरवाही के कारण ईलाज के दौरान एक गर्ववती महिला की मौत हो गयी थी | इस ऑडिट में एक बात स्पष्ट हुई है की डेथ का मुख्य कारण गांव स्तर में निजी प्रेक्टिस कर रहे एम पी डब्ल्यू (सरकारी कर्मचारी) द्वारा महिला को गलत ईलाज गांव में किया गया था |
२) परिवार के बिना सहमती से प्रसव के तुरन्त बाद महिला को डॉक्टर द्वारा कोपर टी लगाया गया था, प्रसव के 11 माह बाद गर्भास्य में संक्रमण होने पर योनी मार्ग से मवाद निकालने के कारण 5 सितम्बर 2015 को जिला अस्पताल सतना में बताया, जहा ईलाज के दौरान  महिला की मौत 7 सितम्बर 2015 हो गयी |
इस दोनों केसों के  सम्बन्ध में आशा, आंगनवाडी कार्यकर्ता, परिजन, ए एन एम (PHC)  एवं डॉक्टर (स्त्रीरोग विशेषज्ञ, DH) के साथ चर्चा की गयी | विस्तृत रिपोर्ट प्रक्रिया में है तैयार होते ही आप साथी साथिओं को साझा किया जायेगा |
केस ऑडिट टीम
१) अरुण त्यागी जी- राज्य समिति सदस्य एवं संभाग समन्वयक, रेवांचल संभाग
२) सावित्री सिंह –  राज्य समिति सदस्य
३) केदार रजक – सहयोगी कार्यकर्ता, रेवांचल संभाग
४) अजय लाल – सचिवालय, एम एच आर सी
_____________________________________________________________________
जिला स्तरीय एम एच आर सी बैठक, सतना 
26 सितम्बर 2015
26 सितम्बर 2015 को सतना में जिला स्तरीय एम एच आर सी बैठक त्यागी जी के सहयोग से किया गया इस बैठक में लगभग ३२ साथिओं ने भागीदारी की और निम्न चर्चाए की गयी –IMG_20150926_142358
१) मैटरनल डेथ पर पैरोकारी
२) एम एच आर सी को जिले में मजबूत बनाना
३) एम एच आर सी की सदस्यता प्रपत्र द्वारा
४) निष्क्रिय सदस्यों पर चर्चा
५) अन्य
निर्णय
१) जिला स्तर पर एम एच आर सी कम्युनिटी का गठन
२) मैटरनल डेथ पर पैरोकारी, जिला एवं विकासखंड स्तर पर
३) निष्क्रिय सदस्यों की सदस्यता समाप्त करना
____________________________________________________________________
जिला स्तरीय एम एच आर सी बैठक, सिंगरौली   
21 सितम्बर 2015 को सिंगरौली जिले में एम एच आर सी सदस्यों का बैठक मंजू चौधरी (एमएचआरसी, सदस्य) के द्वारा आयोजित की गयी | इस बैठक में मुख्यतः द्धिDSC06215तीय सामुदायिक
निगरानी के तहत जानकारी के आधार पर जन संवाद आयोजित व कार्ययोजना पर चर्चा की गयी | इस जन संवाद के लिए हमें निम्न तैयारी करने की आवश्यकता है जैसे; PHC सेवाओं की स्तिथि, VHND में सेवाओं की स्तिथि, आरोग्य केंद्र व उप स्वास्थ्य केंद्र की स्तिथि, सेवा से वंचित व डेथ केसो को एकत्रित करना आदि  इसके साथ ही बैठक में निम्नांकित मुद्दे पर चर्चा व निर्णय लिए गये  –
१) जन संवाद आयोजित करने का तारीख नवम्बर माह के प्रथम सप्ताह सुनिश्चित की जाएगीMHRC meeting , singrouli
२) एम एच आर सी को जिले में मजबूत बनाने में नये सदस्यों व संस्थाओं को शामिल करना और निरंतर दो माह में बैठक आयोजित करना
३) बैठक में नये सदस्यों ने भागीदारी होने के कारण एम एच आर सी की ढांचागत स्तिथि और अभियान के उद्धेश्यो के बारे में बताया गया
४) जिला स्तर पर एम एच आर सी कम्युनिटी का गठन
विस्तृत रिपोर्ट के लये यहाँ दबाये

_____________________________________________________________________

कोपासाह के अंतर्गत ICT कार्यशाला, भोपाल 8-9 सितम्बर 2015

कोपासाह के सहयोग से तृतीये चरण आई.सी.टी कार्यशाला का आयोजन  भोपाल, मध्य प्रदेश में 8-9 सितम्बर 2015 को किया गया | जिसमें विडिओ एडिटिंग पद्धति को समझाया गया | मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान की ओर से इस कार्यशाला में मध्य प्रदेश के पांच जिले (भोपाल, सिहोDSCN1836र, मुरैना, सीधी और छिंदवाडा) के पांच संस्थायों के साथिओं ने भागीदारी की |  इस कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य  था की प्रतिभागियों को मातृत्व स्वास्थ्य के मुद्दों को विडिओग्राफी की मदद से उजागर कर पैरोकारी कर सके साथ ही स्वम् विडिओ क्लिपिंग बना सके | इसलिए इस दो दिन की कार्यशाला में संक्षिप्त विडिओ बनाने  की पद्धति पर जोर दिया गया और प्रतिभागीओं को कार्यशाला के दौरान विडिओ बनाने पर निरंतर अभ्यास करवाया गया | प्रतिभागी द्वारा कार्यशाला के अंतिम दिन फ़ाइनल विडिओ  बनाकर प्रस्तुत  किया | इस कार्यशाला का प्रथम चरण भोपाल में में 8-10 जनवरी 2015 और  दूसरा चरण बडौदा, गुजरात में 2-4 जुलाई को आयोजित किया था |

_____________________________________________________________________

राज्य समन्वयन समिति बैठक (2015)

३ सितम्बर २०१५ को मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान (MHRC) का राज्य स्तरीय बैठक की गयी |  इस बैठक में राज्य स्तर समूह के सभी सदस्य उपस्थित थे | बैठक में MHRC सदस्यों की विभिन्न नेटवर्क के कार्यक्रम में भागीदारी,  न्यूज़ लेटर, blog, विडिओ वौलेट्री के साथ सम्बन्ध, जिला एवं संभाग स्तर में बैठक, सन्दर्भ व्यक्ति का चयन और जिला एवं राज्य स्तर पर जन संवाद चर्चा किया गया |

बैठक के निर्णय 

१) MHRC के कोन्वेनिंग टीम में परिवर्तन किया गया है पहले प्रार्थना जी, राकेश भाई और धीरेन्द्र थे पर राज्य स्तर की टीम की निर्णय पर परिवर्तन किया गया और अब डॉ . सेन, स्मृति, राकेश और मै (अजय) बनाया गया |

२) अभियान को मजबूत करने के लिए  जिला स्तर पर बैठक व MHRC के अन्य कामो में मदद के लिए संभाग स्तर पर रिसोर्स ग्रुप बनाने की बात की गयी |  एक संभाग में २ व्यक्ति का रिसोर्स ग्रुप होगा जो जिलेवार मीटिंग व सम्बंधित गतिविधियों पर मदद करेगा| तीनो संभाग में ६ व्यक्ति का ग्रुप होगा | संभाग और समूह का नाम निम्न है –

– रेवांचल से = केदार (सीधी) और सुशील (अनुपपुर)

– चम्बल से = रामजी शरण ( दतिया) और प्रोमोद (श्योपुरी)

– भोपाल = चयन नहीं हो पाया है

३)  न्यूज़ लेटर के लिए सम्पदकिये समूह का गठन किया गया | सदस्यों का नाम डॉ . सेन (रायसेन), स्मृति (भोपाल), रामजी शरण (दतिया) , अशोक मंद्रे (छिन्दवाड़ा)

४)  MHRC की सदस्यता के लिए प्रपत्र तैयार करना चाहिए और वर्तमान में साथिओं को भी यह प्रपत्र भेजना चाहिए जिससे उनकी सदस्यता सुनिश्चित हो सके |

५) २८ से ३० जुलाई २०१५ को भोपाल में मातृत्व स्वास्थ्य पर दस्तावेजीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया था इसी कार्यशाला का संभाग स्तर पर फॉलो उप मातृत्व स्वास्थ्य पर दस्तावेजीकरण कार्यशाला तीनो संभाग में अक्टूबर माह के अंतिम सप्ताह में किया जाना तय किया गया |

६)  सामुदायिक निगरानी प्रक्रिया के तहत जानकारी के आधार पर तीनो संभाग में एक एक जिला में  जन संवाद आयोजन नवम्बर माह के पहला सप्ताह में तय किया गया | निम्नाकित संभाग के जिलो में  जन संवाद आयोजन करने का तय किया गया –

चम्बल – दतिया

रेवांचल – सिंगरौली

भोपाल – बैतूल

रिपोर्ट के लिए यहाँ दबाएँ

_____________________________________________________________________

मातृ मृत्यु समीक्षा और दस्तावेजीकरण पर तीन दिवसीय कार्यशाला

पैस्टोरल सेंटर, भोपाल

  28 30 जुलाई 2015

पृष्ठभूमि – मातृत्व स्वास्थ्य हकदारी अभियान मध्य प्रदेश DSC02177में पिछले दो वर्षों से मातृत्व स्वास्थ्य पर काम कर रही है| इस अभियान में मध्य प्रदेश के २२ जिलों के ५६ संस्थाओं का एक मजबूत संगठन है, अभियान से जुड़ें साथिओं का समय समय पर स्वास्थ्य अधिकार, मातृत्व स्वास्थ्य और सार्वजानिक स्वास्थ्य प्रणाली आदि मुद्दों पर क्षमातावार्धन का कार्य करता है साथ ही राज्य व राष्ट्रीय स्तर के संस्था व संगठनो के कार्यक्रमों में भागीदारी करवाता है और अभियान के साथिओं की विशेष मांग पर प्रयास किया जाता है की उनकी क्षमतावार्धन किया जा सके| अभियान के साथिओं द्वारा लम्बे समय से मातृ मृत्यु समीक्षा पर क्षमतावर्धन की मांग की जा रही थी जिसको मद्देनज़र रखते हुए अभियान के सचिवालय द्वारा NAMHHR संगठन दिल्ली से संपर्क कर मातृ मृत्यु समीक्षा पर तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया| कार्यशाला के प्रथम दिन की शुरुआत साथियों के स्वागत के साथ हुई जिसमें स्वागत व परिचय के बाद साथियों के समक्ष कार्यशाला के उद्देश्य रखे गए जो कि निम्न प्रकार हैं:

  1. स्वास्थ्य प्रदाताओं द्वारा मातृत्व स्वास्थ्य से जुड़े मानव अधिकारों के हनन पर समझ बनाना|
  2. मातृ मृत्यु समीक्षा पर समझ बनाना|
  3. दस्तावेजीकरण की प्रक्रिया को गहरायी से समझना|

प्रशिक्षण की रिपोर्ट के लिए यहाँ दबाएँ   _____________________________________________________________________

कोपासाह के अंतर्गत ICT कार्यशाला, बरौदा 2-4 जुलाई 2015
कोपासाह के सहयोग से तीन दिवसीय (8-10 जनवरी 2015) आई.सी.टी कार्यशाला का आयोजन भोपाल, मध्य प्रदेश में किया गया था जिसमें फोटोग्राफी पद्धति को सामुदायिक निगरानी एवं पैरोकारी में कैसे उपयोग किया जा   सकता है यह समझाया गया था| इस कार्यशाला का दूसDSC01851रा चरण बडौदा, गुजरात में 2-4 जुलाई को आयोजित किया गया जिसमें मातृत्व स्वास्थय हकदारी अभियान से पांच जिलों (भोपाल, सिहोर, मुरैना, सीधी और छिंदवाडा) के प्रतिभागी शामिल हुए| इस कार्यशाला का मुख्य उद्देश्य विभिन्न राज्यों द्वारा फोटोग्राफी का उपयोग करके बनायीं गयी फोटो स्टोरी एवं पैरोकारी के कार्य को साझा करना एवं एक नयी पद्धति विडिओ-ग्राफी को सीखना था|

संक्षिप्त रिपोर्ट पढ़ने के लिए यहाँ दबाएँ

मध्य प्रदेश द्वारा किया प्रस्तुतीकरण

—————————————————————————–

राज्य समन्वयन समिति बैठक (जून 2015)

मातृ स्वास्थय हकदारी अभियान की राज्य समन्वयन समिति की एक दिवसीय बैठक का आयोजन 29.6.2015 को संगिनी कार्यालय भोपाल में किया गया| इस बैठक में निम्नलिखित मुद्दों पर चर्चा की गयी-

1. गतिविधि कैलेंडर
2. विडियो वालंटियर्स का प्रस्तुतीकरण
3. CBM डाटा शायरिंग
4. स्थानीय मातृ मृत्यु पैरवी पर चर्चा
5. नेटवर्क समन्वयन, अभियान
6.मातृ मृत्यु समीक्षा कार्यशाला
7. न्यूजलेटर, ब्लॉग एवं लोगो पर चर्चा
8. कार्ययोजना

संक्षिप्त रिपोर्ट पढ़ने के लिए यहाँ दबाएँ

__________________________________________________

राज्य समन्वयन समिति बैठक (मई 2015)

दुसरे चरण में की गयी सामुदायिक निगरानी प्रक्रिया से निकले आंकड़ों को साझा करने हेतु राज्य समन्वयन समिति की एक दिवसीय बैठक आयोजित की गयी|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ दबाये

3 मई 2015 समन्वयन समिति बैठक 

_____________________________________________________________________

कोपासाह ICT कार्यशाला भोपाल (जनवरी 2015 )

आई.सी.टी यानि सूचना एवं संप्रेषण तकनीक एक आधुनिक और सशक्त तकनीक है जिसका उपयोग फोटोग्राफी एवं विडिओ के माध्यम से सामुदायिक निगरानी प्रक्रिया में किया जा सकता है| इस तकनीक के माध्यम से स्वास्थ्य की स्थिति को जानने व समझने के लिए कोपासाह के सहयोग से 8-10 जनवरी को भोपाल में राष्ट्रिय स्तरीय प्रशिक्षण का आयोजन किया गया जिसमें मातृत्व स्वास्थय हकदारी अभियान के साथियों द्वारा भागीदारी की गयी|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ दबाएँ

8-10 जनवरी 2015 भोपाल

__________________________________________________

जिला बैठकें- (दिसंबर 2014)

अभियान को और मजबूती देने के लिए प्रत्येक तीन माह में जिला स्तरीय बैठक का आयोजन किया जाता है जिसमें अभियान से जुड़ी सभी संस्थाओं द्वारा कार्य की समीक्षा की जाती है| दिसम्बर माह में चार जिलों में बैठक की गयी जिसमें मुख्यतः निम्न विषयों पर बात की गयी:

  • मातृत्व स्वास्थय हकदारी अभियान का परिचय (नए साथियों के लिए)|
  • सामुदायिक निगरानी प्रक्रिया का वविशलेषण|
  • जिला स्तरीय मातृत्व स्वास्थय की स्तिथि पर चर्चा|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ दबाये

27 दिसंबर 2014 दतिया जिला बैठक
28 दिसंबर 2014 रेवा जिला बैठक
28 दिसंबर 2014 श्योपुर जिला बैठक
29 दिसंबर 2014 सीधी जिला बैठक

_____________________________________________________________________

सामुदायिक  निगरानी प्रक्रिया प्रशिक्षण- द्वितीय चरण 

मातृत्व स्वास्थय हकदारी अभियान के कार्य अंतर्गत सामुदायिक निगरानी प्रक्रिया का उपयोग कर मातृत्व स्वास्थय सेवाओं की गुणवत्ता एवं वंचित समुदाय तक स्वास्थ्य सेवाओं की पहुँच को देखा जाता है| सामुदायिक निगरानी प्रक्रिया से पूर्व अभियान से जुड़ी साथी संस्थाओं का क्षमतावर्धन किया जाता है| माह नवम्बर व दिसंबर में रीवांचल रीजन, भोपाल रीजन एवं चम्बल रीजन  की साथी संस्थाओं का दो दिवसीय प्रशिक्षण आयोजित किया गया था जिसका उद्देश्य निम्न प्रकार था-

  • साथी संस्थाओं के कार्यकर्ताओं की सामुदायिक निगरानी पर जानकारी एवं समझ बढ़ाना|
  • सामुदायिक निगरानी प्रक्रिया के प्रपत्रों पर जानकारी एवं समझ बढ़ाना|
  • समुदाय स्तर पर प्रपत्रों का उपयोग कैसे करना है उसपर जानकारी देना|
  • मातृत्व स्वास्थय सेवाओं पर जानकारी एवं समझ बढ़ाना|
  • सार्वजनिक स्वास्थय प्रणाली पर जानकारी एवं समझ बढ़ाना|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ दबाये

भोपाल प्रशिक्षण 18-19 नवम्बर 
रेवांचल प्रशिक्षण 25-26 नवम्बर 
चम्बल प्रशिक्षण 30-31 दिसंबर
____________________________________________________________
मातृ मृत्यु  पैरवी, सतना – (नवम्बर 2014)

मातृत्व स्वास्थय हकदारी अभियान के सदस्यों द्वारा सतना जिले में 6 माह में हुई 35 मातृ मृत्यु के कारणों को गहराई से जानने के लिए एवं पैरवी का काम करने के लिए 2 दिवसीय क्षेत्र भ्रमण किया गया जिसका निम्न उद्देश्य था-

१ मृत महिला के परिवार से मिलकर समस्या की पहचान करना|
२ जिला स्वास्थय अधिकारी से मातृ मृत्यु के मुद्दे पर चर्चा करना|
३ मीडियाकर्मियों के साथ पैरवी|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ दबाये

सतना फील्ड विजिट – 4-5 नवम्बर

_____________________________________________________________________

त्रैमासिक रीजनल बैठक (नवम्बर 2014)

मध्य प्रदेश में मातृत्व स्वास्थय हकदारी अभियान महिलाओं के मातृत्व स्वास्थय अधिकार के लिए 23 जिलों की स्वयंसेवी संस्थाओं के साथ काम कर रहा है| अभियान की रणनीति के तौर पर काम की सरलता को देखते हुए तीन रीजन में विभाजित किया गया है

१. भोपाल रीजन २. रीवांचल रीजन ३. चम्बल रीजन|

प्रत्येक तीन माह में रीजन में बैठक कर अभियान की आगामी कार्ययोजना का निर्धारण किया जाता है|

इसी चरण में नवम्बर २०१४ में प्रत्येक रीजन में बैठक का आयोजन किया गया जिसमें चर्चा के निम्न मुद्दे थे-

१ नए साथियों को मातृत्व स्वास्थय हकदारी अभियान का परिचय देना|

२ द्वितीय चरण के सामुदायिक निगरानी प्रक्रिया की योजना बनाना|

३ सतना जिले की मातृ मृत्यु की पैरवी पर चर्चा करना|

४ जिला स्तर पर अभियान को मजबूत बनाने की रणनीति बनाना|

५ ब्लॉग एवं न्यूस्लेटर की तैय्यारी पर चर्चा करना

अधिक जानकारी के लिए यहाँ दबाये

3 नवम्बर 2014 रीवांचल रीजन
6 नवम्बर 2014 भोपाल रीजन
23 नवम्बर 2014 चम्बल रीजन

_____________________________________________________________________

राज्य स्तरीय बैठक (अगस्त)

अभियान की स्टीयरिंग कमेटी के प्रयासों को साझा करने के साथ अन्य नेटवर्क में जुड़ाव एवं आगामी कार्ययोजना पर चर्चा करने हेतु राज्य स्तरीय बैठक आयोजित की गयी|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ दबाये

6 अगस्त 2014, भोपाल

_____________________________________________________________________

State Level Public Health Dialogue 

To present findings from the first round of Community Based Monitoring carried out in 13 districts of Madhya Pradesh and discuss issues emerging out of the district level public dialogues,  a state level public health dialogue was organised in Bhopal on February 19, 2014.

Detailed Report
STATE LEVEL PUBLIC HEARING 19TH FEBRUARY 2014
Advertisements