क्षेत्र की आवाज़

वंदना को प्रसव पीड़ा होने पर जिला अस्पताल भिंड में भर्ती कराया गया परन्तु डॉ द्धारा ईलाज में देरी करने से वंदना की मौत हो गयी

वन्दना केस स्टोरी, भिंड  

_________________________________________________________________

रूबी नामक महिला का प्रसव पीड़ा होने पर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया जहा पर डॉ ने लापरवाही से प्रसव कराया जिसके कारण नवजात की मौत हो गई और प्रसूता को रेफर किया गया |

1 रूबी केस स्टोरी, सीधी  

________________________________________________________________

सामुदाय निगरानी के तहत एकत्रित आंकड़ो के आधार पर रिपोर्ट के माध्यम से राज्य स्तरीय जन संवाद आयोजित 29 अप्रैल 2016 को भोपाल में किया गया था | इस जन संवाद में अभियान के साथिओं द्धारा स्वास्थ्य सेवाओं से उल्लंघन व सेवाओं से वंचित केस एकत्र किया गया था जो जन संवाद के दिन सक्षम अधिकारी के समक्ष साक्ष्य के रूप में प्रस्तुत किया गया  | साथिओं द्धारा कुल 35 केस एकत्र किये गए थे परन्तु समय के अभाव में मात्र 5 केस प्रस्तुत किया गया जो मातृत्व स्वास्थ्य सेवाओ में अतिहनन केस थे आप सभी साथिओं को साझा किया जा रहा है |

केस की विस्तृत रिपोर्ट पड़ने के लिए क्लिक करे |

1 . अनूपपुर केस

2. दतिया केस

3. सतना केस -1

4. सतना केस-2

5. सीधी केस

_________________________________________________________________

1. सीधी जिले के कुसमी विकासखंड के दुबरी कला गांव की 26 वर्षीय सुमित्रा पति रामलाल को प्रसव पीड़ा होने के कारण वन विहार की वाहन की मदद से रात 10 बजें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मझौली पहुंचा जहा पर नर्स ने भर्ती करने पर इंकार कर जिला अस्पताल रेफर कर दिया | परन्तु पति द्वारा डॉक्टर के घर में जाकर प्रार्थना करने पर डॉक्टर ने भर्ती कर लिया, परन्तु सुमित्रा को देखने नहीं गया | सुमित्रा दर्द से तड़पती रही ईलाज नहीं मिला और रात लगभग 12 बजे हमेशा के लिए दर्द से छुटकारा मिल गया |

केस स्टोरी केदार रजक, ग्राम सुधर समिति द्वारा लिखा गया है 

विस्तृत केस की जानकारी के लिए यहाँ दबाएँ

प्रसूता की मौत, सो रहा है डॉक्टर      ___________________________________________________________________

2. छिन्दवाड़ा जिले के अमरवाडा विकासखंड की पटनिया गांव की शांति पति कलीराम का प्रसव पीड़ा होने के कारण आशा की मदद चाही परन्तु समय पर आशा की उपस्तिथि  नहीं होने के कारण अस्पताल जाने के लिए 108 उपलब्ध नहीं हो पायी और प्रसव घर पर हो गयी  | शिशु अस्वस्थ होने के कारण कुछ ही समय में शिशु की मौत हो गयी |

विस्तृत केस की जानकारी के लिए यहाँ दबाएँ

नवजात शिशु की मृत्यु, पटनिया, छिन्दवाड़ा 

3. सतना जिले की उचेहरा विकासखंड के अटरा गांव की बबली पति बृजेश दूसरी बार गर्भवती हुई थी | गर्भावस्था के दौरान बबली को किसी प्रकार की समस्या नहीं थी और बबली ने इस दौरान सारी चिकित्सीय  सुविधा ली थी | गर्भकाल का पूरा समय चल रहा था, वह एक दिन सुबह उठकर लगभग 9 बजे घर के बाहर  वाले भागो में काम कर रही थी कि अचानक प्रसव पीड़ा शुरू हुई और प्रसव वही पर हो गया| तत्काल बृजेश ने आशा कार्यकर्ता को सूचना दी जिसने 108 की मदद से बबली को जिला चिकित्सालय सतना पहुँचाया| परन्तु वहाँ  डॉक्टर ने बबली को मृत घोषित कर दिया | 

विस्तृत केस की जानकारी के लिए यहाँ दबाएँ

Maternal death case, Babli- Satna (MP)

_____________________________________________________________________

4. सतना जिले के उचेहरा विकासखंड के अटरा गांव की संगीता पति प्रह्लाद को 1 बजे दिन को प्रसव पीड़ा शुरू हुई| प्रह्लाद ने आशा की मदद से जननी वाहन  द्वारा अपनी पत्नी को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुँचाया| तब तक 4 बज चुके थे|  केंद्र में डॉक्टर न होने के कारण संगीता की जांच अगली सुबह 8 बजे डॉक्टर द्वारा की गयी| दोपहर 3 बजे संगीता ने एक बच्ची को जन्म दिया परन्तु जन्म के कुछ समय बाद संगीता को कमजोरी का अहसास होने लगा| सामुदायिक स्वास्थय  केंद्र के डॉक्टर द्वारा प्रबंध नहीं होने पर जिला अस्पताल सतना रेफर किया गया | जिला अस्पताल ले जाने के दौरान रस्ते में संगीता की मौत हो गयी | 

विस्तृत केस की जानकारी के लिए यहाँ दबाएँ

Maternal death case,Sangita – Satna (MP)

_____________________________________________________________________

5. सीधी जिले की मलवरी गांव की कुसुमकली पति पुष्पराज अपने तीसरे बच्चे को जनम देने वाली थी | 7 दिसम्बर 2014 की रात 10 बजे प्रसव पीड़ा शुरू हुई सुबह 3 बजे आशा कुसुमकली के घर पहुची और 108 को फोन लगाया 108 नहीं आने की स्तिथि में कुसुमकली को निजी वाहन से PHC कारवाही सुबह 4:30 बजे ले गया जहा पर कोई नहीं था | 8 दिसम्बर 2014 को सुबह 8 बजे ANM द्वारा जाँच के बाद  जिला अस्पताल रेफर किया गया  फिर 108 फोन करने के बाद नहीं आया परिजन निजी वाहन से जिला अस्पताल ले गया जहा पर  ईलाज के दौरान माँ और बच्चे दोनों की मौत हो गयी |

विस्तृत केस की जानकारी के लिए यहाँ दबाएँ

Maternal death case, Malwari – Sidhi (MP)

_____________________________________________________________________

6. जननी सुरक्षा या जी का जंजाल ?

Download – जननी सुरक्षा या जी का जंजाल

_____________________________________________________________________

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s